नहरें बेपानी, कैसे करें सिचाई

संवादसूत्र,गरुड़:चुनावकेदौरानकिसानोंकीआयदोगुनीकरनेऔरउन्हेंहरसुख-सुविधाएंदेनेकादंभभरनेवालीसरकारकिसानोंकीसुधनहींलेरहीहै।किसानोंकीआयदोगुनीकरनेकीबाततोछोड़िएरबीकीबुआईकासमयआगयाहैलेकिनअभीतककत्यूरघाटीकीअधिकांशनहरेंसूखीपड़ीहैंऔरझाड़ियांउगगईहैं,लेकिनकोईजिम्मेदारइननहरोंमेंपानीचलवानेऔरझाड़ियोंकोसाफकरवानेकीजहमततकनहींउठारहेहैं।जिससेकिसानोंकोगेहूंकीबुआईकेलिएचिंतासतानेलगीहै।कत्यूरघाटीकीकृषिव्यवस्था¨सचाईपरनिर्भरहै।परंतुयहांकीनहरोंमेंपानीचलनेकेबजायझाड़ियांउगीहुईहैं।रबीकीफसलोंकीबुआईकासमयशुरूहोगयाहै।¨सचाईमहकमाअभीतकनहरोंमेंपानीनहींचलापायाहै।इतनाहीनहींकईनहरेंमलबेसेपटीहुईहैं।विभागनेकईनहरोंकेहैडतकनहींबांधेहैं।कत्यूरीराजवंशकीप्रमुखनहरहरगेड़ीतोकमेंबंजरपड़ीहै।कुछस्थानोंपरयहनहरक्षतिग्रस्तभीहै।सत्रहअक्टूबरकोबीडीसीबैठकमेंजनप्रतिनिधियोंनेइसमुद्देकोप्रमुखतासेउठायाथा।बैठकमेंमौजूदविभागीयअधिकारियोंनेनहरकोदुरस्तकरनेकादावाकियाथा।लेकिनयहदावाहवा-हवाईहीसाबितहुईहै।बयालीसेराकेअलावामन्यूड़ा,गड़सेर,पाये,मटेना,बंड,पचना,बिमौला,स्यालाटीटआदिस्थानोंपरनहरेंबंदपड़ीहैं।विभागीयउपेक्षाकेचलतेगेहूंकीबुवाईकीतैयारीकररहेकिसानोंकेमाथेपर¨चताकीलकीरेंखींचदीहैं।मटेनाकीग्रामप्रधानशकुंतलाकांडपाल,गड़सेरकेनवीनममगाई,बंडकेनंदन¨सह,पायेकेकैलाशखड़का,नौघरकेशंकरनेगी,सिल्लीकीसीमापांडे,पचनाकीप्रेमादेवीसहितकाश्तकारगोपाल¨सहनेगी,नारायणदत्त,दिनेशजोशी,मनोजकांडपालआदिने¨सचाईविभागसेशीघ्रनहरोंकीसफाईकरपानीचलाएजानेकीमांगकीहै।

नहरोंकीसफाईकेलिएइसबारविभागकेपासबजटनहींहै।फिरभीमनरेगासेनहरोंकीसफाईकरादीगईहै।एकसप्ताहकेभीतरनहरोंकेहैडबांधकरसभीनहरोंमेंपानीचलादियाजाएगा।

-हरीशचंद्रसतीएसडीओ,¨सचाईविभाग,बैजनाथ