नहर में चुल्लू भर पानी, कैसे हो पलेवा

संवादसहयोगी,अजीतमल:नहरवबंबोंमेंनाममात्रकापानीहोनेकेकारणकिसानअगलीफसलकीसमयसेबुआईनहींकरपारहेहैं।इससमयकईजगहगेहूंवआलूकीबुआईकेलिएपलेवाहोनाहै।लेकिनपानीकेअभावमेंखेततैयारनहींहोपारहेहैं।

कभीबारिशतोकभीबाढ़केकारणकिसानोंकोमुसीबतोंकासामनाकरनापड़ा।हजारोंकिसानोंकीफसलइनदोनोंआपदाओंकेकारणचौपटहोगई।वहअगलीफसलकीतैयारीमेंजुटेहैं।लेकिनअबउनकेसामनेसूखीनहरेंवबंबेमुसीबतबनकरखड़ेहोगएहैं।भोगनीपुरप्रखंडनहरऔररजवाहोंमेंउड़तीधूलउनकोमुंहचिढ़ारहीहै।तैयारखडीधानकीप्यासीफसलकोएकबारपानीकीजरूरतहै।पानीकेअभावमेंगेंहू,आलूवजौकीफसलोंकेपलेवाकोअन्नदाताओंकोखेततैयारकरनेमेंमुसीबतकासामनाकरनापड़रहाहै।क्षेत्रकेग्रामनियामतपुरनिवासीकिसानलालसिंहबतातेहैंकिधानकीफसलमेंबालीआचुकीहै।एकपानीनमिलातोदानाबहुतपतलाहोजाएगा।वीरेंद्रसिहकहतेहैंकिपानीनमिलनेसेउत्पादनमेंगिरावटआसकतीहै।मेहनतभीबरबादहोजाएगीऔरलागतभीचलीजाएगी।अजीतमलनिवासीअनिलकुमारबतातेहैंकिगेंहूकीबुआईकासमयचलरहाहै।खेततैयारकरनेकेलियेपलेवाकीजरूरतहै।रविद्रयादवबतातेहैंकिनहरऔररजवाहोंकेकिनारेजिनकिसानोंकेखेतहैं।वहइन्हींपरनिर्भरहैं।बोलेजिम्मेदार

किसानोंकेहितमेंजल्दहीनहरमेंपानीछुड़वायाजाएगा।इससेउनकीसमस्याकासमाधानहोजाएगा।

रामजीवन,उपजिलाधिकारी