नगरा अस्पताल में ड्रेसर व ओटी असिस्टेंट के बिना होता है इलाज

संवादसूत्र,नगरा:सरकारचाहेअस्पतालोंमेंसुविधाओंकेनामपरजितनीभीपीठथपथपालेपरप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रनगराकीस्थितिसुधरनहींपारहीहै।यहांस्वास्थ्यकर्मियोंतथादवाकीबेहदकमीहै।इसकारणसरकारकेकरोड़ोंरुपयेपानीमेंजारहेहैं।सरकारकीलोककल्याणकारीयोजनाओंसेप्रखंडकेमरीजोंकोलाभनहींमिलपारहाहै।

इससमयकेंद्रमेंसूचीबद्ध48दवाओंमेंसे25दवाएंहीउपलब्धहैं।चारएमबीबीएस,तीनआयुषतथादोआरबीएसचिकित्सककार्यरतहैं।वहींएएनएमके32स्वीकृतकीजगहमात्र17कार्यरतहैं।यहांड्रेसरऔरओटीअसिस्टेंटएकभीनहीहैं।चिकित्सापदाधिकारीडॉमहेंद्रमोहननेबतायाकितीनमाहसेस्लाइन,ग्लब्स,सीरिज,निडिलआदिनहींमिलरहाहै।अस्पतालमेंएकभीड्रेसरनहींरहनेसेइमरजेंसीकेदौरानचिकित्सकतथाएएनएमकोहीकार्यकरनापड़ताहै।यहांमात्रछहबेडहैं।शौचालयतीनहै।स्वास्थ्यकेंद्रमेंलैबकीसुविधाहै।लैबटेक्नीशियनकृष्णाकुमारतथारविनाथझानेबतायाकियहांलगभगआधादर्जनरोगोंसेसंबंधितजांचकीव्यवस्थाहै।आरओमशीनलगभगएकसालसेखराबपड़ाहै।लोगोंकोटंकीकापानीमुहैयाहोताहै।अधिकारियोंनेबतायाकिइसपीएचसीकेअधीनदोएपीएचसीरघुनाथपुरतथाखोदाईबागसंचालितहै।वहीं12उपस्वास्थ्यकेंद्रभीहैं।क्याकहतेहैंमरीज

अफौरगांवकेशंकररामकी30वर्षीयपत्नीबबीतादेवीनेकहाकिदोसालपहलेनसबंदीकराईथी।लेकिनकुव्यवस्थाऐसीकिइसकेपैसेकेलिएदोसालसेअस्पतालमेंबाबूओंकेचक्करलगारहीहै।ऐसीवहअकेलीनहीं,दर्जनोंमहिलाएंहैं।

80वर्षीयसवलियाउपाध्यायनेकहाकिअस्पतालमेंएकसालसेएक्स-रेकीसुविधाबंदहै।जरूरतकेअनुसारजांचएवंदवाएंभीनहींमिलतीहै।अस्पतालकेकर्मियोंकामरीजोंकेप्रतिभीअच्छाव्यवहारनहींरहताहै।हमेशाडांट-फटकारकीभाषाउपयोगकरतेहैं।फोटो-17सीपीआर26

35वर्षीयाजाहिदाबेगमनेकहाकियहांओपीडीमेंजोदवाएंलिखीजातीहैवहअस्पतालमेंउपलब्धनहींहै।अधिकांशदवाईयांबाजारसेखरीदनीपड़तीहै।आखिरसरकारसेआयीसभीदवाईयांकहांचलीजातीहैकोईबतानेकोतैयारनहींहै।फोटो-17सीपीआर27

55वर्षीयविद्यावतीमिश्रानेकहाकिअस्पतालमेंएकभीमहिलाडॉक्टरनहींहै।इसकारणमहिलाओंकोइलाजमेंपरेशानीहोरहीहै।खासकरप्रसवकेदौरानकाफीदिक्कतोंकासामनाकरनापड़ताहै।कोईदाईयानर्सहीप्रसवकरादेतीहैं।यहमहिलाओंकेलिएकाफीखतरनाकवालास्थितिहै।