नाव की कमी, जुगाड़ से चल रही जिदगी

सहरसा।कोसीकेजलस्तरमेंउतार-चढ़ावजारीहै।कोसीमेंजलस्तरबढ़ने-घटनेकेकारणकईसड़केंध्वस्तहोगईहैं।वहींकईऐसेगांवहैंजहांसेआने-जानेकाएकमात्रसाधननावहीहै।चारोंतरफपानीफैलजानेकेकारणइसटोलासेउसटोलाजानेकेलिएभीनावकासहारालेनापड़ताहै।ऐसेमेंनावकीकमीसाफतौरपरदिखतीहै।नावकीकमीकोदेखलोगजुगाड़केसहारेजिदगीकाटरहेहैं।हालांकियहखतरनाकहै।

सलखुआप्रखंडक्षेत्रमेंप्रशासनकेद्वारा26नावउपलब्धकरायागयाहै।बावजूदकईमुख्यमार्गपरकोशीकापानीबहनेऔरकईस्थानोंपरसड़ककीसंपर्कभंगहोनेपरग्रामीणोंकोनावकीकमीबड़ीकमीहै।तटबंधकेभीतरताजपुर,घोरमाहा,कोतवलिया,सौथिकेअलावादियाराऔरफरकियाकेअन्यकईग्रामीणइलाकोंमेंनावकीकमीहै।ग्रामीणोंनेहारकरप्रशासनकीओरसेमददनहींमिलनेकेबादबाढ़प्रभावितक्षेत्रमेंछोटेछोटेकस्बोंकेलोगोंनेघरसेमुख्यमार्गपरपहुंचनेऔरआवागमनकेलिएजुगाड़नावकाईजादकियाहै।ग्रामीणोंकाकहनाहैकिलकड़ीकानावकाफीमहंगाहै।ऐसेमेंयहीजुगाड़नावसहाराहैबनाहै।उटेशरापंचायतकेबहुअरवा-भरनानिवासीजितेन्द्रसिंहऔरलवघरियाटोलानिवासीरितेशकुमारसिंहघरेलूसामानलानेऔरमुख्यसड़कमार्गपरआनेकेलिएथर्मोकोलकीबनीजुगाड़नावतैयारकी।इससेआवाजाहीकरनेलगे।

हरसालआठपंचायतके

लोगझेलतेहैंबाढ़कीमार

प्रखंडके11पंचायतमेंहरवर्षखासकरआठपंचायतकेलोगहरवर्षविस्थापितहोतेहैं।हरसालअपनानयाआशियानाबनातेहैं।ग्रामीणोंकाआरोपहैकिबाढ़पूर्वइससमस्यासेनिजातदिलानेकीउपायनहींकिएजातेहैं।जबकोसीकापानीअपनारौद्ररूपदिखागांवकोअपनीआगोशमेंलेनेलगतीहैतबबचावकार्यकियाजाताहै।बाढ़पीड़ितोंकाकहनाहैकिप्रशासनभलेहीबाढ़पीड़ितोंकोमददपहुंचानेकीदावेकररहीहो,लेकिनअसलियतकुछऔरहीहै।

क्याकहतेहैंसीओ

सीओश्यामकिशोरयादवनेकहाकिअबतक26नावकापरिचालनप्रखंडक्षेत्रमेंहोरहाहै।बाकीनावकीव्यवस्थामेंलगेहुएहैं।फिलहालनावनहींमिलरहाहै।जैसेहीनावकीव्यवस्थाहोगीउपलब्धकरादियाजाएगा।बाढ़सेप्रभावितलोगोंकेलिएसरकारीस्तरसेहरव्यवस्थाकीजारहीहै।