न बाबा न, अब परदेस नहीं जाएंगे

खगड़िया।जिलेमेंबड़ीसंख्यामेंप्रवासीलौटेहैं।36हजारसेऊपरप्रवासीअबतकआएहैं।सिलसिलाजारीहै।हजारोंप्रवासीअभीक्वारंटाइनसेंटरोंमेंहैं,जबकिकईक्वारंटाइनकीअवधिपूरीकरघरोंकोजाचुकेहैं।सभीकोरोजी-रोटीकीतलाशहै।मनरेगासेजॉबकार्डभीदियाजारहाहै।नलजलमेंभीकाममिलरहाहै।इधरप्रवासियोंकाकहनाहैकिसूखीरोटीखालेंगे,लेकिनपरदेसनहींजाएंगे।पुलकितशर्माअभीबैशास्थितएकक्वारंटाइनसेंटरमेंहैं।वे15वर्षोंसेगजियाबादमेंबिजलीमिस्त्रीकाकामकरतेथे।कहतेहैं-अबगांव-घरोंमेंहीरहेंगे।यहांहीकामकरेंगे।बंदेहराकेदीपककुमारकोलकातामेंरहतेथे।यहांआनेपरउन्हेंक्वारंटाइनकियागया।क्वारंटाइनकीअवधिपूरीकरअबघरपरहैं।उन्होंनेकहाकिआधीरोटीखाकरभीगांवमेंहीरोजी-रोजगारकरेंगे।माधवपुरपंचायतकेविष्णुपुरगांवकेरणवीरयादव,संजयसिंह,तेमथाकरारीपंचायतकेकुंदनकुमार,गोबिदकुमारआदिपरदेससेलौटचुकेहैं।येकहतेहैं,मवेशीपालनकरभीगांवमेंहीरहेंगे।माधवपुरपंचायतकेसामाजिककार्यकर्तालालरतनकुमारनेबतायाकिउनकेगांवमेंबहुतलोगआएहैं।उन्हेंयदिरोजगारगांवमेंमिलजाताहै,तोबाहरनहींजाएंगे।मनरेगापीओरश्मिरंजननेबतायाकिविभिन्नक्वारंटाइनसेंटरसेमुक्तहुए400प्रवासियोंकोजॉबकार्डदिएगएहैं।पूर्वसेयहां29हजारजॉबकार्डधारीथे।जोभीचाहेंगेउन्हेंजॉबकार्डदियाजाएगा।सौदिनमजदूरीभीदीजाएगी।