मसलिया बाजार में पानी के लिए हाहाकार

संवादसूत्र,मसलिया:मुख्यालयअवस्थितपानीटंकीकेकईसप्ताहसेखराबरहनेसेमसलियाबाजारमेंपेयजलकेलिएहाहाकारमचाहुआहै।दुर्गापूजामेंभीलोगपानीकेलिएअहलेसुबहसेचापानलकेपासकतारमेंखड़ेदिखे।करीबएकमाहपूर्वहीग्रामीणोंनेचंदाइकठ्ठाकर12हजाररुपयाखर्चकरपानीटंकीकीमरम्मतकरायीथी।परंतुदोसप्ताहकेभीतरहीटंकीकेफिरखराबहोजानेसेग्रामीणमायूसहैं।बाजारमेंएकदोचापानलकोछोड़करबाकीसभीखराबहैं।ऐसीपरिस्थितिमेंमसलियाबाजारकेलोगपानीटंकीकेपानीपरहीनिर्भरहै।टंकीखराबरहनेसेलोगतीसरुपयाजारपानीखरीदकरप्यासबुझारहेहै।पेयजलएवंस्वच्छताविभागकरीबदोवर्षसेआवंटननहीमिलनेकीबातकहकरहाथखड़ाकरचुकाहै।पानीटंकीकेऑपरेटरकाकहनाहैकिस्टार्टरवमोटरमेंखराबीआजानेकेकारणयहसमस्याउत्पन्नहुईहै।विभागकेसाथजनप्रतिनिधिभीसमस्यानिदानकेप्रतिउदासीनहै।