मनुष्य के दुख के बड़े कारण हैं ईष्र्या और द्वेष : आनंद मुनि

जागरणसंवाददाता,चरखीदादरी:

ईष्र्याऔरद्वेषमनुष्यकेदोमुख्यअवगुणहैंजोमानवकोदुखीकरनेकेलिएपर्याप्तहैं।लगातारलंबेसमयतकयेमनोभावमनमेंरहनेपरएकमानसिकविकारकारूपधारणकरलेतेहैं।यहइंसानकोदुखोंकेसागरमेंधकेलदेताहै।यहबातरविवारकोजैनमुनिउपप्रवर्तकआनंदमुनि,दीपेशमुनिनेनगरप्रस्थानकरतेहुएकही।जैनमुनिनेकहाकिजिदगीमेंदोप्रकारकेदुखीलोगहोसकतेहैं।एकवोजोअपनेदु:खकेकारणदुखीहैंऔरदूसरेवोजोदूसरोंकेसुखकेकारणदुखीहैं।पहलेवालेलोगसहानुभूतिकेपात्रहोसकतेहैं।दूसरीतरहकेमानवोंकोभीसहानुभूतिकापात्रसमझाजासकताहैअगरवोकिसीकोसुखनहींदेसकतेतोकिसीकोकिसीतरहकेदु:खदेनेकाभीअधिकारनहींहैं।जैनमुनियोंनेकहाकिकिसीइंसानकोअपनेदु:खकेकारणदु:खहोतोबातसमझमेंआतीहैलेकिनउसेदूसरोंकेसुखकोदेखकरदु:खहोताहोतोइसकाएकहीकारणहोसकताहैकिवहइंसानकहींनकहींईष्र्याऔरद्वेषकीभावनाओंकाशिकारहै।उन्होंनेकहाकिसुखबांटनेसेबढ़ताहै।दूसरोंकोसुखीदेखनेकीकामनाभीशायदअपनासुखबढ़ानेकामार्गहै।दूसरोंकीखुशहालीकीकामनाहमेंदूसरोंकेसुखसेदुखीहोनेसेरोकेगी।इसअवसरपरमुकेशजैन,आइसीजैन,पंकजजैन,संदीपजैन,मुकेशजैन,इंद्रजैन,धीरजजैन,अतुलजैन,लक्कीजैन,कपिलजैन,टीनूजैन,दीपकजैन,विपिनजैन,सुरेशजैन,किशनजैन,लताजैन,मंजूजैन,प्रेमलता,शांतिजैन,सुरेंद्रमोहनजैन,उषाजैन,अभयजैनसहितसमाजकेसैकड़ोंलोगउपस्थितथे।

लोकसभाचुनावऔरक्रिकेटसेसंबंधितअपडेटपानेकेलिएडाउनलोडकरेंजागरणएप