मक्खियों के आतंक से मच्छरदानी में काटनी पड़ रही रोटी

लखीमपुर:कोरोनामहामारीकोभलेहीसरकारनेगंभीरतापूर्वकलेलिया,लेकिनअब्बासपुरस्थितबरनालापोल्ट्रीफार्मकेआसपासकेदर्जनोंकीसंख्यामेंगांवकाआलमयहहैकियहांमक्खियोंनेकहरबरपानाशुरूकरदियाहै।ग्रामीणोंकोएकवक्तकीरोटीखापानाभीमुश्किलपड़रहाहै।इसकेलिएभीउसेमच्छरदानीकासहारालेनापड़ताहै।यहीनहींचपरतलाक्षेत्रकेआसपासहोटलवढाबासंचालकभीमक्खियोंकेचलतेअपनेव्यापारोंकोसहीतरीकेसेसंचालितनहींकरपारहेहैं।मक्खियोंकाआतंकइतनाबढ़चुकाहैकिक्षेत्रकेकईगांवोंमेंयुवाओंकीशादियोंकेलिएलोगआनाबंदहोगएहैं।लोगइनमक्खियोंकीवजहसेइनगांवोंमेंअपनेघरकारिश्ताकरनानहींचाहतेहैं।अब्बासपुरनिवासीदिलबागसिंहबतातेहैंकिअगरहमकोईसमारोहकरनाचाहतेहैंतोकईबारसोचनापड़ताहै।इनमक्खियोंकीवजहसेमेहमानआतेनहींहैं।आभीजातेहैंतोयहकहकरचलेजातेहैंकियहांपरगंदगीऔरमक्खियांबहुतहैं।जबतकयहरहेगीतबतकहमनहींआएंगे।डंडौरानिवासीपृथ्वीसिंहबतातेहैंकिजबसेपोल्ट्रीफार्मचालूहुआहै,मक्खियोंनेतोजीनादुश्वारकरदियाहै।मक्खियांइतनीज्यादाहैंकिअगरखानाभीखानाहोताहैतोमच्छरदानीकासहारालेनापड़ताहै।इछनापुरनिवासीपूरनसिंहबतातेहैंकिहमारेलड़केकेरिश्तेकेलिएकुछलोगआएथे,लेकिनयहबोलकरचलेगएकियहांपरगंदगीऔरमक्खियांबहुतहैं।हमऐसेगांवमेंरिश्तानहींकरेंगे।कईबारहुआप्रदर्शनमक्खियोंकीसमस्यासेपरेशानग्रामीणोंनेकईबारधरनाप्रदर्शन,जलसत्याग्रहभीकियालेकिन,बजायसमस्यासुधरनेकेमक्खियोंकीसमस्यादिन-प्रतिदिनबढ़तीनजरआरहीहै,समुचितनिराकरणनमिलनेकेचलतेआखिरकारग्रामीणोंकेसामनेअबयहांसेपलायनकरनेकेअलावाकोईरास्तानजरनहींआरहाहै।क्याकहतेहैंजिम्मेदार

क्षेत्रमेंसमस्याकोलेकरसंबंधितअधिकारियोंकोकईबारअवगतभीकरायाजाचुकाहै,पूर्वमेंहीउच्चअधिकारियोंकेद्वारापत्रकेमाध्यमसेविभागोंकोइससमस्याकेबारेमेंअवगतकरायाजाचुकाहै।जल्दहीकोईनकोईहलनिकालकरक्षेत्रकीसमस्याकोखत्मकरानेकाप्रयासकियाजाएगा।''

डा.पंकजवर्मा,राजकीयपशुचिकित्सक