मकान बनाना व बच्चों को पढ़ाना हुआ मुश्किल

बहराइच:डीजल-पेट्रोल,कोयलाकीकीमतोंमेंउछालकाअसरभवननिर्माणसामग्रीएवंपढ़ाई-लिखाईमेंप्रयुक्तहोनेवालीस्टेशनरी,शिक्षाशुल्क,वाहनशुल्क,ड्रेसकीकीमतोंपरभीपड़ाहै।ऐसेमेंजरूरतमंदोंकोमकानबनवानेमेंदिक्कतहोरहीहै।अभिभावकोंकोनौनिहालोंकोपढ़ानेमेंजेबखालीकरनीपड़रहीहैं।

गतवर्षकीअपेक्षाइसवर्षस्टेशनरीपर20फीसदतकबढ़ोतरीहुईहै।ड्रेसवस्कूलबैगमहंगाहुआहै।स्कूलोंसेघरतकलानेले-जानेवालेवाहनोंकाशुल्कभी20फीसदबढ़गयाहै।कागजमहंगाहोनेसेकापी-किताबेंमहंगीहोगईहैं।पांचसे10रुपयेकेसामानकीकीमतदोसेतीनरुपयेबढ़गईहै।स्केचपैन,कलरबाक्सवकापियोंकेदाममें10से15प्रतिशतकीतेजीआईहै।निजीप्रकाशकोंनेपुस्तकोंकेदाम15से20फीसदबढ़ाएहैं।सामान्यनिजीस्कूलमेंप्राथमिकशिक्षाकेएकछात्रकोपढ़ानेमेंमाहकाखर्च500सेछहसौरुपयेआताथा,जोबढ़कर700रुपयेहोचुकाहै।

स्टेशनरीवट्रेडर्सकेमहंगाईकासीधाअसरगरीबवमध्यमवर्गीयपरिवारकेलोगोंपरपड़रहाहै।बढ़तीमहंगाईसेआमआदमीकीआर्थिकस्थितिनाजुकहोचुकीहै।हरकोईपरेशानहै।दाखिलाकरानेकेलिएनहींबढ़ाईफीस

निजीविद्यालयसंचालकनेबतायाकिनएशिक्षणसत्रकीशुरुआतमेंअभिभावकविद्यालयमेंअपनेछात्रोंकादाखिलाकरवानेसेनकतराएं,इसलिएकुछविद्यालयोंमेंशिक्षाऔरवाहनशुल्कनहींबढ़ायागयाहै,लेकिनजिसतरहसेमहंगाईहै,ऐसेमेंजल्दहीशिक्षाएवंवाहनशुल्कबढ़नातयहै।

मकानबनानाहुआऔरमुश्किल

गिट्टी,मौरंग,सीमेंट,सरिया,बालू,ईंटकीकीमतेंबढ़नेसेआमआदमीकाघरबनानेकासपनाअधूरारहगयाहै।मकानबनवानेमेंजुटेलोगोंकोनिर्माणकार्यकेबादआर्थिकतंगीकासामनाकरनापड़रहाहै।पिछलेवर्षएककमराबनवानेमेंजितनीरकमखर्चहोतीथी,इससमय30फीसदअधिककीव्यवस्थाकरनीपड़तीहै।कोट

सरियाकेरेटआसमानछूरहेहैं।सीमेंटकीकीमत35से40रुपयेप्रतिबोरीबढ़गईहै।मौरंग,गिट्टी,बालूसबकेरेटबढ़ेहैं।जोईंटछहसेसातहजाररुपयेमेंमिलरहीथी,उसकेलिएअबसातसेआठहजाररुपयेदेनेपड़रहेहैं।निर्माणसामग्रीमहंगीहोनेकेकारणघरबनानाभीमहंगाहोगयाहै।

-आशीषकालिया,ग्रामीण----------------महंगाईकाअसरभवननिर्माणसामग्रीकीकीमतोंपरपड़ाहै।डीजल-पेट्रोलकेदामबढ़नेसेपरिवहनमहंगाहुआहै।लोडिगएवंअनलोडिगकीमजदूरीभीबढ़गईहै।आकस्मिककार्योंकेलिएजुटाईगईबचतकीरकममकानबनवानेमेंखर्चहोरहीहै।

-रविशंकरतिवारी,ग्रामीण

स्टेशनरीमहंगीहोनेकाअसरअभिभावकोंपरपड़रहाहै।सरकारकोपाठ्यपुस्तकोंकेबढ़तेदामोंपरअंकुशलगानाचाहिए,ताकिगरीबोंएवंनिम्नमध्यमवर्गीयतबकेकेबच्चेशिक्षाग्रहणकरसकेंऔरअभिभावकपरेशाननहो।

-अनुजमिश्र,अभिभावक

डीजल-पेट्रोलमहंगाहोनेकेकारणस्कूलोंसेछात्रोंकोलाने-लेजानेवालेवाहनोंकाशुल्कबढ़गयाहै।स्कूलबैगवड्रेसकीकीमतोंमेंभारीबढ़ोतरीहुईहै।ऐसेमेंअभिभावकोंकीजेबेंढ़ीलीहोरहीहै।इसकाअसरउनकेबजटपरपड़रहाहै।

-रमनमिश्र,अभिभावक

---------------------भवननिर्माणसामग्रीकेरेटपरएकनजर

सामग्रीगतवर्षअब

मौरंग(प्रतिवर्गफीट)50-5565-70

गिट्टी(प्रतिवर्गफीट)58-6060-66

बालू(प्रतिवर्गफीट)18-2020-25

सीमेंट(प्रतिबोरी)380-390400-430

सरिया(प्रतिकिलोग्राम)58-6075-80

ईंट(प्रतिहजार)6800-70007500-8000

मिस्त्रीमजदूरी(प्रतिदिन)500-700600-800

दिहाड़ीमजदूरी(प्रतिदिन)200-250250-300

-------------------स्टेशनरीकेभावपरएकनजर

सामानगतवर्षअबबड़ीपटरी(प्लास्टिक)1012

पेंसिलबाक्स4060

कलरस्केचपैन2025

(नोट:कापियोंकेभाववहीहैं,कितुपेजअथवाचौड़ाईवलंबाईकमकरदीगईहै।)इलाजभीहुआमहंगा

दवाकंपनियोंनेदामबढ़ादिएहैंतोनिजीचिकित्सकोंनेअपनीफीसभीबढ़ादीहै।सस्तेइलाजकीआसलेकरआनेवालेलोगोंकोमहंगाईकीमारझेलनीपड़रहीहै।करीबदससेबीसफीसदतकदवाकेदामबढ़ाएगएहैं।

पैनटाप140160रुपये

मोनोसेफ130170रुपये

मेफ्टलस्पास4575रुपये

एटूजेड115146रुपये