मजदूर का बेटा रंजीत बनेगा इंजीनियर

सीतापुर:पंखोंसेकुछनहींहोता,हौसलोंसेउड़ानहोतीहै।यहलाइनेंबाबूपुरनिवासीरंजीतकुमारपरबिल्कुलसटीकबैठतीहैं।शारीरिककमजोरीकोपछाड़कररंजीतनेआइआइटीमेनकीपरीक्षामेंऑलइंडिया114वींरैंकप्राप्तकरजिलेकानामरोशनकियाहै।बाबूपुरनिवासीरंजीतकेपिताभोलाराममजदूरीकरतेहैं।जबकिमांमायादेवीगृहणीहैं।भोलारामकेपासकेवलदोबीघाभूमिहै।खेतीकेसाथमजदूरीकरभोलाअपनेपरिवारकाभरणपोषणकरतेहैं।रंजीतनेवर्ष2019मेंइंटरमीडिएटबोर्डपरीक्षामेंभीजिलाटॉपकियाथा।इंजीनियरबनदेशसेवाकासपनारखनेवालेरंजीतनेबतायाकिमेहनतवलगनसेसफलताप्राप्तकीजासकतीहै।दिव्यांगहोनेकेबादभीउन्होंनेमेहनतसेमुंहनहींमोड़ा।माता-पिताकोअपनाआदर्शमाननेवालेरंजीतनेकहाकिआर्थिकतंगीकेबादभीमाता-पितानेसदैवप्रोत्साहितकिया।

कच्चाघर,बिजलीभीनहीं

रंजीतकेआइआइटीमेंसकीपरीक्षापासकरनेपरगांववालेभीखुशहैं।रंजीतकाघरकच्चाहै।घरमेंबिजलीकनेक्शनभीनहींहै।रंजीतनेबतायाकिलालटेनकेसहारेवहराततकपरीक्षाकीतैयारीकरतेथे।

विद्यालयनेदियासहारा

इंटरमीडिएटटॉपकरनेकेबादआगेकीपढ़ाईमेंआर्थिकस्थितिबाधकथी।रंजीतकीप्रतिभादेखकरप्रकाशविद्यामंदिरइंटरकॉलेजकेप्रबंधकओमप्रकाशवर्मानेपढ़ाईकेलिएआर्थिकमदददी।परीक्षाकेलिएसामग्री,किताबेंऔरनोट्सभीमुहैयाकराए।

बेटेकीसफलतापरपिताकोगर्व

रंजीतकेपिताभोलारामनेकहामेराबेटाइंजीनियरबनेगा,इससेअच्छीबातऔरक्याहोसकतीहै।बेटेकीसफलतापरगर्वहोरहाहै।

शुरुआतसेमेधावीरहारंजीत

प्रकाशविद्यामंदिरइंटरकॉलेजकेप्रबंधकओमप्रकाशवर्मानेकहाकिरंजीतशुरुआतसेमेधावीरहाहै।वहआगेचलकरएकसफलइंजीनियरबनेगा।