महबूबा की तालिबानी मानसिकता: महबूबा मुफ्ती का कश्मीर के तालिबानीकरण का मंसूबा कभी नहीं हो पाएगा कामयाब

[ रसालसिंह]:जम्मू-कश्मीरकीपूर्वमुख्यमंत्रीऔरपीपुल्सडेमोक्रेटिकपार्टीकीमुखियामहबूबामुफ्तीकाविवादितबयानोंसेपुरानानातारहाहै,लेकिनहालमेंउन्होंनेदुस्साहसकीसभीसीमाएंतोड़दीं।अफगानिस्तानमेंतालिबानकेहालियाकब्जेकीमिसालदेतेहुएउन्होंनेभारतसरकारकोखुलीधमकीदीकिवहकश्मीरियोंकेसब्रकाऔरइम्तिहाननलेऔरअमेरिकासेसबकसीखेकिउसेकैसेअपनाबोरिया-बिस्तरबांधकरभागनापड़ा।उनकेबयानसेप्रतीतहोताहैकिवहस्वयंकोतालिबानऔरभारतकोअमेरिकामानरहीहैं।ऐसेमुगालतेकेसाथवहयहभूलरहीहैंकिकश्मीरअफगानिस्तानकीतरहकोईआजादमुल्कनहीं,बल्किभारतकाअभिन्नअंगहै।इससेदुनियाकोदिखाहोगाकिकश्मीरकीस्वयंभूलोकतंत्रवादीऔरमानवाधिकारवादीदरअसलतालिबानकीहिमायतीऔरहमदर्दहैं।महबूबाचाहेंतोअपनीअलगाववादीढपलीपरतालिबानीरागगाएं,लेकिनकश्मीरकेतालिबानीकरणकाउनकामंसूबाकभीकामयाबनहींहोगा।इसबयाननेउनकीतालिबानीमानसिकताकाहीपरिचयदियाहै।उनकेबयानपहलेभीअलगाववादकीआगमेंघीडालनेकाकामकरतेहैं,लेकिनएकमहिलाहोनेकेबावजूदतालिबानकीवकालतकरनेवालीमहबूबाक्यायहचाहतीहैंकिकश्मीरमेंभीबहन-बेटियोंकेपढ़ने-लिखनेऔरकामकाजपरपाबंदीलगजाए।तालिबानद्वारामहिलाओंको‘यौनदासी’बनानेजैसीकुप्रथापरउनकाक्यामतहै?क्यावहचाहतीहैंकिसवालोंकेजवाबजुबानकेबजायगोलियोंसेमिलनेलगें।

तालिबानकीअसलियतजगजाहिरहै।वहमध्यकालीनमानसिकतावालामहिलाऔरलोकतंत्रविरोधीक्रूरआतंकीसंगठनहै।कश्मीरमेंउसकीआमदकीकामनाकरनामहबूबाकेवास्तविकमंसूबोंऔरबिगड़तेमानसिकसंतुलनकोउजागरकरताहै।भाजपाकेनेतृत्ववालीकेंद्रसरकारकोधमकानेकेफेरमेंवहसंभलसेसपाकेसांसदशफीकुर्रहमानबर्कऔरशायरमुनव्वररानासेभीदोकदमआगेनिकलगईहैं।वहयहभीभूलगईंकिसत्ताकीजिसभूखऔरभाजपासेनफरतनेउनकेविवेकपरआघातकियाहैउसीकेसाथवहऔरउनकेपितागठबंधनसरकारचलाचुकेहैं।क्याइसआधारपरयहनिष्कर्षनिकालनाअनुचितहोगाकिसत्ताप्राप्तिकेलिएवहभाजपा,कांग्रेसऔरयहांतककितालिबानकाभीसहारालेसकतीहैं।अपनीचिरप्रतिद्वंद्वीनेशनलकांफ्रेंसकेसाथगुपकारगठजोड़बनानाभीउनकेसत्तालोलुपचरित्रऔरअवसरवादकीएकऔरनायाबमिसालहै।

अफगानिस्तानमेंतालिबानकेकब्जेकीमिसालकेमाध्यमसेउन्होंनेएकतरहसेकश्मीरघाटीमेंसक्रियआतंकीसंगठनोंकेहमदर्दहोनेऔरउनकेतारतालिबानसेजुड़ेहोनेकाभीसुबूतदियाहै।यहकिसीसेछिपानहींरहाकिजम्मू-कश्मीरमेंसक्रियहिजबुलमुजाहिदीन,लश्कर-ए-तोइबाऔरजैश-ए-मुहम्मदजैसेदुर्दांतआतंकीसंगठनोंनेअफगानिस्तानमेंतालिबानकासाथदेकरवहांकीलोकतांत्रिकसरकारकोअपदस्थकरानेमेंअपनीभूमिकानिभाईहै।उसीसेउत्साहितहोकरउन्होंनेकेंद्रसरकारकोधमकीदेनेकीहिमाकतकीहै।उल्लेखनीयहैकिजेलमेंबंदपीडीपीकेतथाकथितयुवानेतावहीद-उर-रहमानपराकेआतंकीजुड़ावकीपुष्टिहोचुकीहै।फिरभीपीडीपीनेउसपरकोईकार्रवाईनहींकी।तालिबानकीधमकीदेनापृथ्वीराजचौहानकोनीचादिखानेकेलिएजयचंदद्वारामुहम्मदगोरीकोदिएगएन्योतेकीयाददिलाताहै।महबूबाकोखुदतयकरनाहैकिक्यावहभारतीयइतिहासमेंएकऔरजयचंदकेरूपमेंअपनीजगहबनानाचाहतीहैं।यहअलगबातहैकि21वींसदीकेसंगठितऔरसशक्तभारतमेंमुहम्मदगोरीअर्थाततालिबानकाहश्रबहुतभयानकहोगा।

केंद्रसरकारकोमहबूबामुफ्तीद्वारालगातारदिएजारहेभड़काऊबयानोंकासंज्ञानलेनाचाहिए।नजरबंदीसेनिकलनेकेबादवहएककेबादएकऐसेबयानदेकरराष्ट्रविरोधीविमर्शकोहवादेरहीहैं।पत्थरऔरबंदूकछोड़करमुख्यधारामेंशामिलहुएकश्मीरीयुवाओंकोवहफिरभड़कानेकीफिराकमेंहैं।दरअसलहिंसा,आतंकऔरअलगाववादउनकीराजनीतिकाआधाररहाहै।वहकिसीभीकीमतपरउसकेपरित्यागकोतैयारनहींदिखरहीं।उनकेऐसेरवैयेसेआतंकियोंएवंबिगड़ैलपड़ोसीकेहौसलेऔरबढ़तेहैं।इसलिएउनपरसख्तकार्रवाईजरूरीहोगईहै।उन्हेंयहसमझानाआवश्यकहैकिकश्मीरकेमसलोंकासमाधानपड़ोसीदेशोंऔरभाड़ेकेआतंकियोंकेहमदर्दऔरहिमायतीबननेसेनहीं,बल्किभारतकीसंवैधानिकप्रक्रियाओंमेंआस्थारखनेऔरउनकासम्मानकरनेसेनिकलेगा।

जहांतकपाकिस्तानकीबातहैतोअफगानिस्तानमेंतालिबानीहुकूमतआनेसेउसकीबांछेंखिलीहुईहैं।आइएसआइकोकश्मीरअंतिमसांसेंगिनरहीआतंकीजड़ोंमेंनईजानआनेकीउम्मीदबंधीहै।इसीलिएभारतसरकारबदलीहुईपरिस्थितियोंकोदेखतेहुएजम्मू-कश्मीरमेंसुरक्षाव्यवस्थाकोऔरचाकचौबंदकरे।अन्यथाअनुच्छेद370केबादआतंककीकमरतोड़नेकाजोरणनीतिकलाभहासिलहुआथावहजातारहेगा।साथहीराज्यमेंपरिसीमनप्रक्रियाकोजल्दसंपन्नकरविधानसभाचुनावकरानेचाहिए।फिरपूर्णराज्यकेदर्जेकीबहालीकीदिशामेंकदमउठाएजाएं।इससेनकेवलकश्मीरकोलेकरअंतरराष्ट्रीयदुष्प्रचारपरप्रहारहोगा,बल्किजनादेशकेआधारपरगठितलोकतांत्रिकसरकारकेसत्तारूढ़होनेसेतालिबानीमानसिकताकोभीमुंहतोड़जवाबमिलेगा।जम्मू-कश्मीरकीजनताअबशांतिकेसाथसमृद्धिचाहतीहै।इसलिएकेंद्रसरकारनेइसदिशामेंजोप्रयासकिएहैंउनकीगतिऔरतेजकीजानीचाहिए।

(लेखकजम्मूकेंद्रीयविश्वविद्यालयमेंअधिष्ठाता-छात्रकल्याणहैं)