मौजूदा और पूर्व सांसद विधायक कर रहे साढ़े चार हजार मुकदमों का सामना, हाई कोर्टों ने सुप्रीम कोर्ट को बताया

नईदिल्ली,पीटीआइ।सुप्रीमकोर्टकोसभीहाईकोर्टोंसेमिलीजानकारीकेअनुसारदेशमेंनेताओंकेखिलाफ4,442आपराधिकमुकदमेंचलरहेहैं।इनमेंसे2,556ऐसेमामलोंमेंवर्तमानसांसदोंतथाविधायकोंकेखिलाफमुकदमेलंबितहैं।संसदऔरविधानसभाओंमेंनिर्वाचितप्रतिनिधियोंकेखिलाफलंबितआपराधिकमामलोंकेतेजीसेनिबटारेकेलिएदायरयाचिकाओंपरन्यायालयनेसभीउच्चन्यायालयोंकेरजिस्ट्रारजनरलकोऐसेलंबितमामलोंकाविवरणपेशकरनेकानिर्देशदियाथा।

इसमामलेमेंन्यायमित्रकीभूमिकानिभारहेवरिष्ठअधिवक्ताविजयहंसारियानेसभीहाईकोर्टोसेमिलेविवरणकोसंकलितकरकेअपनीरिपोर्टशीर्षअदालतकोसौंपीहै।इसरिपोर्टमेंकहागया,'सभीउच्चन्यायालयोंकीदीरिपोर्टसेपताचलताहैकिकुल4,442ऐसेमामलेलंबितहैं।इनमेंसे2,556मामलोंमेंवर्तमानसांसद-विधायकआरोपितहैं।इनमेंसे352मामलोंकीसुनवाईउच्चतरअदालतोंकेस्थगनआदेशकीवजहसेरुकीहै।'

न्यायालयमेंपेश25पेजकेहलफनामेमेंकहागयाहैकिइन2,556मेंनिर्वाचितप्रतिनिधिआरोपितहैं।इनमामलोंमेंसंलिप्तप्रतिनिधियोंकीसंख्यामामलोंसेज्यादाहैक्योंकिएकमामलेमेंएकसेज्यादाऐसेनिर्वाचितप्रतिनिधिशामिलहैंजबकियहीप्रतिनिधिएकसेअधिकमामलोंमेंआरोपितहैं।

भाजपानेताऔरअधिवक्ताअश्विनीउपाध्यायकीजनहितयाचिकापरन्यायालयकीओरसेदिएगएआदेशपरयहरिपोर्टदाखिलकीगई।हंसारियानेअपनेहलफनामेमेंराज्योंकेअनुसारभीमामलोंकीसूचीपेशकीहैजिनमेंउच्चअदालतोंकेस्थगनआदेशोंकीवजहसेमुकदमोंकीसुनवाईरुकगईहै।रिपोर्टकेअनुसारसुप्रीमकोर्टऔरहाईकोर्टने352मामलोंकीसुनवाईपररोकलगाईहै।413मामलेऐसेअपराधोंसेसंबंधितहैंजिनमेंउम्रकैदकीसजाकाप्रावधानहै।इनमेंसे174मामलोंमेंपीठासीननिर्वाचितप्रतिनिधिशामिलहैं।

उत्तरप्रदेशहैसबसेआगे

रिपोर्टकेअनुसारइसचार्टमेंसबसेऊपरउत्तरप्रदेशहैजहांजनप्रतिनिधियोंकेखिलाफ1,217मामलेलंबितहैंऔरइनमेंसे446ऐसेमामलोंमेंवर्तमानजनप्रतिनिधिशामिलहैं।इसीतरह,बिहारमें531मामलोंमेसे256मामलोंमेंवर्तमानजनप्रतिनिधिआरोपितहैं।रिपोर्टमेंकहागयाहैकिअनेकमामलेभ्रष्टाचारनिरोधककानून,धनशोधनरोकथामकानून,शस्त्रकानून,सार्वजनिकसंपत्तिकोनुकसानसेरोकथामकानूनऔरभारतीयदंडसंहिताकीधारा500केतहतदर्जहैं।न्यायमित्रनेइननेताओंसेसंबंधितमुकदमोंकेतेजीसेनिबटारेकेलियेन्यायालयकोकईसुझावभीदिएहैं।इनमेंसांसदोंऔरविधायकोंकेमामलोंकेलियेप्रत्येकजिलेमेंविशेषअदालतगठितकरनेकासुझावशामिलहै।

ऐसेमामलोंकीनिगरानीकीसलाह

रिपोर्टमेंकहागयाहैकिहाईकोर्टोंकोऐसेमामलोंकीप्रगतिकीनिगरानीकरनीचाहिए।हलफनामेमेंसुझावदियागयाहैकिप्रत्येकहाईकोर्टकोराज्यमेंलंबितऐसेमामलोंकीप्रगतिकीनिगरानीऔरशीर्षअदालतकेनिर्देशोंकाअनुपालनसुनिश्चितकरनेकेलिएसांसद/विधायकोंकेलिएविशेषअदालतनामसेअपनेयहांस्वत:मामलादर्जकरनाचाहिए।प्रत्येकहाईकोर्टपूर्वऔरवर्तमानजनप्रतिनिधियोंसेसंबंधितमुकदमोंकीसंख्याऔरमामलेकीप्रवृत्तिकोदेखतेहुएउन्हेंसुनवाईकेलिएआवश्यकतानुसारसत्रअदालतोंऔरमजिस्ट्रेटकीअदालतोंकोनामितकरसकतेहैं।हाईकोर्टआदेशकेचारसप्ताहकेभीतरइसतरहकाफैसलालेसकतेहैं।यहभीसुझावदियागयाहैकिविशेषअदालतोंकोउनमुकदमोंकोप्राथमिकतादेनीचाहिएजिसमेंअपराधकेलिएदंडमौतकीसजायाउम्रकैदहै।इसकेबादसातसालकीकैदकीसजाकेअपराधोंकोलेनाचाहिए।