Mahashivratri 2021: महाशिवरात्रि 11 मार्च को, जानें शिवरात्रि मुहूर्त और ऐसे करें पूजा

जम्मू,जागरणसंवाददाता:महाशिवरात्रिकापर्वफाल्गुनकृष्णपक्षकीचतुर्दशीकेदिनमनायाजाताहै।इसवर्षमहाशिवरात्रि11मार्चगुरुवारकोमनाईजाएगी।इनदिनोंशहरइसमहापर्वकीतैयारियोंमेंजुटाहुआहै।हरओरशिवरात्रिकोलेकरविशेषउत्साहहै।कहींशिवविवाहकीतैयारियांचलरहीहैंतोकहींविशेषपूजाअर्चनाकीतैयारियांचलरहीहैं।

मंदिरोंवालेशहरजम्मूमेंशायदहीकोईगलीमोहल्लाहोगा,यहांशिवमंदिरनहो।इनदिनोंइनमंदिरोंमेंसाफसफाई,रंगरोगनकाकार्यतेजीसेचलरहाहै।शिवभक्तोंकेसबसेबडे़पर्वमहाशिवरात्रिकोलेकरखासाउत्साहबनाहुआहै।मंदिरोंमेंलगरोंकेआयोजनकोलेकरभीसभीतैयारियोंकोअंतिमरूपदियाजारहाहै।खासकरश्रीरणबीरेश्वरमंदिर,शिवमंदिरपीरखो,पंजबख्तरमंदिर,आपशम्भूमंदिररूपनगरआदिसभीमंदिरोंमेंतैयारियांजोरशोरसेचलरहीहैं।मंदिरप्रबंधनअपनेतौरइसकोशिशमेंजुटेहैंकिकिसीभीश्रद्धालुकोकिसीपरेशानीकासामनानकरनापडे़।

रोहितशास्त्रीनेबतायाज्योतिषशास्त्रकीदृष्टिकोणसेशिवरात्रिपर्वचतुर्दशीतिथिकेस्वामीभगवानभोलेनाथअर्थातस्वयंशिवहीहैं।इसलिएप्रत्येकमाहकेकृष्णपक्षकीचतुर्दशीतिथिकोमाशिवरात्रिकेरूपमेंमनाईजातीहै।उनसभीमेंसबसेमहत्वपूर्णफाल्गुनकृष्णपक्षकीमहाशिवरात्रिहोतीहै।फाल्गुनमाहकीशिवरात्रिकेदिनहीभगवानशिवऔरदेवीपार्वतीकाविवाहहुआथा।ज्योतिषशास्त्रोंमेंइसतिथिकोअत्यंतशुभबतायागयाहै।

शिवरात्रिमुर्हूत

चतुर्दशीतिथिआरंभ11मार्च,गुरुवारदोपहर02.40बजेहोगी।समाप्त12मार्च,शुक्रवारदोपहर03.03बजेहोगी।शिवरात्रिपूजामुहूर्तनिशीथकालपूजामुहूर्त24.07से24.57बजे।शिवरात्रिव्रतपारणसमय06.35से15.03बजे12मार्च2021शुक्रवार।11मार्चगुरुवाररात्रिकेसमयभगवानशिवकापूजनएकसेचारबारकियाजाएगा।यहभक्तोंपरनिर्भरकरताहैकिवेकिसतरहमहादेवकीपूजाकरनाचाहतेहैं।रात्रिपहलेप्रहरपूजाकासमयशाम6.26से9.28तक।रातकेदूसराप्रहरमेंपूजाकासमयरात9.29सेरात12.30तक।तीसराप्रहरपूजाकासमयरात12.31से03.31तक।चौथाप्रहरपूजाकासमय03.31से06.33तक।

ऐसेकरेंपूजाअर्चना

विधिपूर्वकव्रतरखनेपरगंगाजल,दूध,दही,घी,शहद,फूल,शुद्धवस्त्र,बिल्वपत्र,धूप,दीप,नैवेध,चंदनकालेप,ऋतुफल,आकधतूरेकेपुष्प,चावलआदिडालकरशिवलिंगकोअर्पितकियेजातेहै।महाशिवरात्रिकोशिवपूजनशिवपुराण,रुद्राभिषेक,शिवकथा,शिवस्तोत्रोंवॐनम:शिवायकापाठकरतेहुएरात्रिजागरणकरनेसेअश्वमेघयज्ञकेसमानफलप्राप्तहोताहैं।मानाजाताहैकिमहाशिवरात्रिकाव्रतमोक्षकीप्राप्तिहोतीहै।शिवपूजासभीपापोंकाक्षयकरनेवालाहै।

महिलाओंकेलिएविशेषमहत्व

महिलाओंकेलिएशिवरात्रिकाविशेषमहत्वहै।अविवाहितमहिलाएंभगवानशिवसेप्रार्थनाकरतीहैंकिउन्हेंउनकेजैसाहीपतिमिले।वहींविवाहितमहिलाएंअपनेपतिऔरपरिवारकेलिएमंगलकामनाकरतीहैं।

महाशिवरात्रिकेव्रतकोरखनेवालोंकोउपवासकेपूरेदिनभगवानशिवशंकरकाध्यानकरनाचाहिए।प्रात:स्नानकरनेकेबादभस्मकातिलककररुद्राक्षकीमालाधारणकीजातीहै।अगरशिवमंदिरमेंपूजन,जापकरनासंभवनहों,तोघरमें,किसीशान्तस्थानपरजाकरपूजन,जापकियाजासकताहैं।शिवकीआराधनाइच्छा-शक्तिकोमज़बूतकरतीहैऔरअन्तःकरणमेंअदम्यसाहसवदृढ़ताकासंचारकरतीहै।

इसबातकाखासध्यानरखनाचाहिएकिभोलेनाथपरचढ़ायागयाप्रसादनखाएं।अगरशिवकीमूर्तिकेपासशालीग्रामहो,तोप्रसादखानेमेंकोईदोषनहींहोता।

आस्थाकेसाथसावधानीभीजरूरी

महाशिवरात्रिकाजोशअभीसेदिखनेलगाहै।शिवालयोंकेदर्शनोंकेअलावालंगरोंकेआयोजनकोलेकरभीविशेषउत्साहदिखरहाहै।ऐसेमेंहमेंयहभीनहींभूलनाहैकिकोरोनासंक्रमणअभीसमाप्तनहींहोगयाहै।कोरोनाकाखौफअभीभीबनाहुआहै।हमलोगोंकोकोरोनाकेसाथजीनेकीआदतबनानीपड़रहीहै।हमसभीकीजिम्मेदारीबनतीहैकिपर्वत्योहारोंकेजोशमेंकोरोनाकीसावधानियोंकोनभूलें।शारीरिकदूरीबनाएरखनेकेसाथ-साथहमेंदूसरीसभीसावधानियोंकाभीतरीकेसेपालनकरनाहोगा।