माहवारी के दौरान पंचेश्वर पुल पर नहीं जा सकती महिलाएं

संवादसूत्र,झूलाघाट:रुढि़वादिताकादंशपंचेश्वरक्षेत्रकीमहिलाएंझेलरहीहैं।मासिकधर्मकेदौरानयुवतियोंऔरमहिलाओंकाभारतनेपालसीमापरपंचेश्वरमेंसरयूनदीपरबनेझूलापुलपरआवाजाहीप्रतिबंधरहतीहै।इसदौरानपुलपरआवाजाहीतोदूररहीपंचेश्वरतीर्थकेआसपासकेएकचिन्हितक्षेत्रमेंप्रवेशतकनहींकरसकतीहै।यहपंरपराहैयाअनिष्ठकीशंकापरंतुमहिलाओंकापुलपरचलनेसेवर्जितहोनाउनकेसाथएकअन्यायहीहै।

भारतनेपालसीमापरकालीऔरसरयूनदीकेसंगमस्थलपरसरयूनदीमेंएकझूलापुलहै।यहीझूलापुलपिथौरागढ़औरचम्पावतजिलेकोजोड़ताहै।सरयूनदीपारकरनेकेलिएअन्यकोईविकल्पनहींहै।इसीझूलापुलपरमाहवारीकेदौरानयुवतियांऔरमहिलाएंनहींचलसकतीहैं।इसस्थानपरअन्यकिसीमाध्यमसेभीरजस्वलानदीपारनहींकरसकतीहैं।जहांपरदोनोंनदियांमिलतीहैझूलापुलभीठीकउसीस्थानपरहै।पुलकेनीचेहीतीर्थहै।निकटमेंहीमंदिरहै।

पिथौरागढ़जिलेमेंपंचेश्वरघाटतकपहुंचनेकेदोमार्गहैं।एकमार्गतोसेलसेहैजोसीधेमंदिरयानितीर्थतकजाताहैदूसरामार्गअन्यगांवोंसेहैजोपहलेझूलापुलपरजाताहैवहांसेफिरतीर्थस्थलतकजाताहै।दोनोंमार्गोमेंमाहवारीकेदौरानयुवतियांऔरमहिलाएंएकनिश्चितस्थलतकहीजासकतीहैं।पंचेश्वरकेपासतकनहींजातीहैं।इसक्षेत्रकेहाट,बाजारचम्पावतजिलेकेक्षेत्रमेंहैं।नदीकेएकदूसरेक्षेत्रकेलोगोंकीआवाजाहीहोतीरहतीहै।परंतुमासिकधर्मवालीमहिलाओंकेलिएपुलपरचलनावर्जितरहताहै।यहपरंपरासदियोंसेचलीआरहीहै।माहवारीकेदौरानपंचेश्वरकेनिकटकालीनदीमेंनेपालकेलिएचलनेवालीनावोंसेभीवहनदीपारनहींकरसकतीहैं।

यहवहीक्षेत्रहैजहांमासिकधर्मकेदौरानछात्राएंपांचदिनतकविद्यालयनहींजापातीहैं।इसीक्षेत्रमेंपुलपरआवाजाहीभीनहींहोतीहै।इससंबंधमेंमहिलाओंद्वाराकिसीतरहकाविरोधआजतकनहींदर्शायागयाहै।परंपराकापालनआजभीयथावतजारीहै।स्वयंमहिलाएंइसदौरानइसक्षेत्रमेंजानेकाप्रयासतकनहींकरतीहैं।