लॉकडाउन ने बदली बुजुर्गो की दिनचर्या

खगड़िया।कोरोनावायरससंक्रमणकोलेकरएकमाहसेअधिकदिनोंसेलॉकडाउनलगाहुआहै।लोगअपनेअपनेघरोंमेंमानोकैदहोचुकेहैं।घरोंमेंकैदबुजुर्गमेंबड़ाबदलावदेखनेकोमिलरहाहै।बुजुर्गबदलतेपरिवेशकोदेखचाल-ढाल,व्यवहारमेंपरिवर्तनकररहेहैं।बुजुर्गअबफेसबुक,ट्विटर,वाट्सएपसेजुड़करअपडेटहोरहेहैं।केसस्टडी-एक

बेलदौरप्रखंडकेइतमादी-स्वर्णपुरीगांवकेबुजुर्गअमरसिंहकिसानहैं।इनकीशैक्षणिकयोग्यतामिडिलपासहै।उनकेसभीचारपुत्रदिल्लीमेंरोजगारकरतेहैं।बेटेसेमुलाकातकरनेलॉकडाउनलगनेसेकुछदिनपूर्वहीदिल्लीपहुंचे।औरलॉकडाउनमेंफंसगए।गांव-घरोंकेखुलेमाहौलमेंरहनेवालेघरमेंकैदहोगएहैं।दिलबहलानेकेलिएछोटापुत्रआदर्शसेएंड्रॉयडमोबाइलसीखा।शुरूकेदिनोंमेंएंड्रॉयडमोबाइलचलानाकठिनलगरहाथा।लेकिनअबफर्राटेसेफेसबुक,वाट्सएपचलातेहैं।वीडियोकॉलिगकरअपनेरिश्तेदारोंसेबातकरतेहैं।वेकहतेहैं-कोरोनासंकटनेव्यवहारमेंपरिवर्तनहीकरडालाहै।केसस्टडी-दो

महिनाथनगरकेबुजुर्गअखिलेशसिंहनेकहाकिकभीसोचाभीनहींथाकिएंड्राइडमोबाइलचलापाएंगे।किसीतरहघरकेबच्चोंसेलॉकडाउनकेबीचमोबाइलचलानासीखगए।अबवेमोबाइलपरहीखबरसेअपडेटरहरहेहैं।साथहीभोपालमेंरहरहेभाईएवंपरिजनसेवीडियोकॉलिगकरआसानीसेबातकररहेहैं।एंड्रॉयडफोननेउनकीदिनचर्याकोहीबदलदीहै।