लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस को विश्वास, अब कभी नहीं आएगा 2014

नईदिल्लीआनेवालेआमचुनावकईमायनेमेंकांग्रेसकेलिएअहमहै।पार्टीअपनेदमपरज्यादासेज्यादासीटहासिलकरदेशकीसियासतमेंअपनाकदबढ़ानाचाहेगी।इसबारकांग्रेस2014कीतरहदबावमेनजरनहींआरही।पिछलेचुनावमेंउसेरक्षात्मकखेलनापड़ाथा।पार्टीकेलिएसुकूनकीबातहैकि2014मेंवहअपनासबसेखराबप्रदर्शनकरचुकीहै।अबजोभीनतीजेआएंगे,वेउससेबेहतरहोंगे।क्योंमजबूतहैइरादा2014कीतुलनामेंराहुलगांधीएकगंभीरनेताकेतौरपरउभरेहैं,जोसीधेमोदीकोटक्करलेतेदिखरहेहैं।प्रियंकागांधीकेआनेसेकार्यकर्ताओंऔरलोगोंमेंउत्साहहै।बीजेपीमेंमोदीअकेलेकरिश्माईनेतानजरआतेहैं।लेकिनकांग्रेसपासस्टारप्रचारकोंकीटीमहै।इसमेंप्रियंका,सिद्धू,सिंधिया,गहलोत,पायलटजैसेलोगहैं।पिछलीयूपीएसरकारमेंआरटीई,आरटीआई,मनरेगाऔरफूडसिक्यॉरिटीजैसेसफलकार्यक्रमोंकाजमीनपरउतरनापार्टीकेसकारात्मकरहाहै।किसपरनजरकांग्रेसनेतीनराज्योंमेंकिसानोंकीकर्जमाफीकी।तबसेलगातारकर्जमाफी,रोजगार,मिनिममइनकम,महिलाआरक्षणकीबातकररहीहै।ऐसाकरनेसेजमीनसेजुड़ेलोगोंतकपार्टीपहुंचरहीहै।पार्टीदेशदोअहमवोटबैंक-युवाऔरमहिलाओंतकपहुंचनेकीकोशिशकररहीहै।इन्होंने2014मेंमोदीकीजीतमेंअहमभूमिकानिभाईथी।छिटकेनजरआरहेदलित,ओबीसी,आदिवासीकिसान,मुस्लिमजैसेतबकोंपरभीपार्टीकीनजरटिकीहै।चुनौतीजमीनपरकांग्रेसकाआधारसिकुड़रहाहै।संघजैसाकाडरनहींहै।नेताओंकेलगातारइस्तीफेहोरहेहैं।गठबंधनकोफाइनलरूपनहींमिला।यूपीमेंपार्टीमहागठबंधनमेंजगहनहींबनापाई।पैसाभीबड़ीचुनौतीहै।बीजेपीकेपासफंडकीकमीनहींहै।पुलवामाहमलेकेबाददेशमेंराष्ट्रवादकामाहौलबना।इसकीकाटकांग्रेसकोनहींमिलपारही।