क्या करें, पापी पेट का सवाल है भई..

जानजोखिममेंडालकरबच्चेलोगोंकोदिखारहेहैंतरह-तरहकेकरतब

यूपीकेमिर्जापुरकारहनेवालाहैराठौरपरिवार,बच्चेचलातेहैंखर्चा

अश्विनीकुमार,छतरपुर(पलामू):जोखिमभराकरतबदिखाकरपेटपालनेकोराठौरोंकापरिवारविवशहै।छतरपुरमेंआजकललोगोंकोजोखिमभराकरतबदिखाकरमनोरंजनकररहेराठौरोंकीटीमकेकरतबसेलोगहैरानहैं।चाहेआंखसेसुईउठानाहो,याबियरकीबोतलपरखड़ाहोनाइनकेकरतबोंसेलोगहैरानहैं।येलोगउत्तरप्रदेशकेमिर्जापुरजिलेकेकोतवालीथानाकेअंकोरगांवनिवासीहैं।टीमलीडरविजयराठौरहैं।वेकहतेहैंकियहसंघर्षहैहमखानाबदोशलोगोंका।वेजातिसेराठौडहैं।मेहनतहीहमाराजीवनहै।हमारीजिदगीआजइसशहरतोकलउसशहरगुजरतीहै।उसनेबतायाकिवहभीभरेपूरेपरिवारकाहिस्साहै।सभीपरिवारहोली(फाल्गुन)मेंघरपरजुटतेहै।होलीमेंअपनेकुलदेवीकोपूजकरपूरेवर्षबिहार,दिल्ली,राजस्थानझारखंडसमेतदेशकेकोनेकोनेमेंजाकरलोगोकामनोरंजनकरअपनापेटपालतेहै।हमारेघरोंमेंबेटियोंकोप्राथमिकतादीजातीहै।उन्हेंहमलगभगदोसालसेहीकरतबदिखानेकेलिएप्रशिक्षणशुरूकरदेतेहैं।हमारीमूलपूंजीयहीलोगहोतेहैं।इन्हीकेकरतबोसेहमसबकापेटपलताहै।खेलदिखारहीबच्चियोंमेंमासूम,मुस्कान,सिमरनवसुंदरीनेकहाकिकरतबोंकेदौरानलोगोकीचुभतीनजरोसेखुदकोबचातेहुएहमारापूराध्यानअपनेखेलपरहीहोताहै।अनुजराठौरनेबतायाकिवेशामसेहीअपनीयात्राकरतेहै।छतरपुरआतेआतेउनकेघरकीदूरीलगभगपांचसौकिलोमीटरहै।हमसभीबसखेलदिखाकरअपनापेटपालतेहै।इसदौरानजहांशामहोगईवहींआस-पासकेविद्यालययासरकारीभवनमेंबसेराडालदेतेहैं।कहाकिटीमकीलड़कियांहीप्रमुखहोतीहै।हमारेसमाजमेंमहिलाओंकोमुखियामानाजाताहै।हमारेघरेलूकार्योकेसाथयेमहिलाएंहीअपनीकलासेपैसेकमातीहै।उन्होंनेकहाकिसड़ककिनारेगांवटोलामेंकरतबदिखातेहुएऔसतनएकहजाररुपएकमालेतेहै।इससेउनकेपरिवारकाखर्चाचलताहै।