क्षेत्र में आशा वर्करों की हड़ताल से लोग परेशान

जागरणसंवाददाता,नगीना:धरनेपरबैठीआशावर्करोंनेजहांएकओरजिलाप्रशासनकेपोलियोअभियानकाबहिष्कारकियाहै,वहींडिलीवरीहटकेसाथ-साथदूसरेकामकाजभीप्रभावितहोरहेहैं।सोमवारकोधरनेपरबैठीआशावर्करोंनेमुख्यमंत्रीकापुतलाफूंका,जिसकेबादआशावर्करोंनेसरकारकेखिलाफनारेबाजीकरतेहुएरोषप्रकटकिया।

वहींअबसामाजिकसंगठनोंकेसाथपंचायतप्रतिनिधिभीआशावर्करोंकेसमर्थनमेंआचुकेहैं।प्रदेशआशावर्करकर्मचारीसंघकेपदाधिकारीसुरेखारानीनेकहाकिमुख्यमंत्रीवस्वास्थ्यमंत्रीकर्मचारियोंकीमांगोंकोलेकरगंभीरहैं,लेकिनअधिकारीकीमनमर्जीकेचलतेयहमांगेंपिछले6महीनेसेपूरानहींहुईहै।आशावर्करकर्मचारीमंजुदेवी,पूनम,संतोष,सुनीता,खुर्शीदन,आसिया,सोनू,सिताब्दी,अनीता,जरीनानेकहाकिजोभीकर्मचारीकच्चालगायाहुआहै,उसकोभीअपनेघरचलानेकेलायकवेतनमिलरहाहै,लेकिनआशावर्करोंकोनाकेबराबरमानदेयमिलरहाहै।उन्होंनेकहाकिमंगलवारकोनूंहमेंधरनादियाजाएगा।

आशावर्करोंकीहड़तालसेपरेशानी:

आशावर्करोंकीहड़तालसेटीकाकरणवसंस्थागतप्रसवमेंभारीपरेशानियांहोरहीहै।स्वास्थ्यविभागकीरिर्पोटकेअनुसार1000नवजातमेंसेकेवल37बच्चेहीमरतेहैं,वहींटीकाकरणकाप्रतिशतबढ़कर78होगयाहै।इसीप्रकारसंस्थागतप्रसवभी79प्रतिशतपरपहुंचगयाहै।ऐसेमेंआशावर्करोंकीहड़तालसेउनकेद्वारादीजानेवालीसभीसेवाएंप्रभावितहोरहीहैं।

डिलीवरीकरानेमेंहोरहीपरेशानी:

खेड़लीकलांकेसूरजपालनेबतायाकिआशावर्करोंकीहड़तालसेलोगोंभारीपरेशानीहोरहीहैक्योंकिमेरीपत्नीनेएकसप्ताहपहलेबच्चेकोजन्मदियाहै।इससेपहलेघरसेअस्पतालमेंअपनीपत्नीकोलेजानेकेलिएएंबुलेंसकोफोनकियातोएंबुलेंसभीनहींआई।

उसकेअलावाअस्पतालमेंआशावर्करकेहोनेसेअच्छीदेखभालभीहोजातीहै,लेकिनअबडॉक्टरोंकीदेखभालमेंखामियांरहजातीहीहैं।इसकेसाथ-साथडिलीवरीहटभीअबठपपड़ेहैं।ऐसेमेंगर्भवतीमहिलाओंकीडिलिवरीकेलिएपरिजनोंकोशहरकेअस्पतालोंकीओरदौड़लगानीपड़रहीहै।आशावर्करोंकेसमर्थनमेंक्षेत्रकेलोगभीउतरआएहैं।खेड़लीकलाकीगीतादेवी,संगीता,विक्रमसहितदर्जनोंलोगोंनेबतायाकिआशावर्करोंकीहड़तालसेपूरेजिलेमेंडिलीवरी,पोलियो,बच्चोंकावजनमापनाऔरग्रामीणवशहरीक्षेत्रमेंमहिलाओंकोजागरूककरनेकाकार्यपूरीतरहसेरुकाहुआहै।