कोविड-19 के मामले 40 लाख के पार जाने के साथ इसके ग्रामीण क्षेत्रों में फैलने के बारे में चिंता बढ़ी

नयीदिल्ली,पांचसितंबर(भाषा)देशमेंकोविड-19केमामले40लाखकेआंकड़ेकोपारकरजानेकेसाथइसकेग्रामीणक्षेत्रोंमेंफैलनेकोलेकरभीचिंताबढ़गईहैंक्योंकिवहांचिकित्सासुविधाओंकेबुनियादीढांचेकाअभावहै।हालांकि,यहमहामारीशुरूआतमेंशहरीक्षेत्रोंतकहीसीमितथी।विशेषज्ञोंनेकहाकिग्रामीणक्षेत्रोंमेंकोरोनावायरसमहमारीकितनीफैलीहै,इसबारेमेंसटीकआंकड़ेनहींहैंलेकिनदेशकेकोने-कोनेमेंइसकेपहुंचजानेकोबतानेकेलियेपर्याप्तसंख्यामेंमामलेहैंतथावहांसामुदायिकस्तरपरसंक्रमणभीफैलरहाहै।महजदोआंकड़ेपूरीकहानीबयांकरदेतेहैं:भारतकी1.3अरबआबादीका65प्रतिशतहिस्सागांवोंमेंहैऔर‘हाऊइंडियालिव्स’वेबसाइटकेमुताबिकदेशमें714जिलोंमेंकोरोनावायरससंक्रमणकेमामलेसामनेआयेहैं,जिससे94.76प्रतिशतआबादीखतरेकासामनाकररहीहै।विशेषज्ञोंकेएकसमूहनेइससप्ताहकेप्रारंभमेंकहाथा,‘‘छोटेशहरोंऔरकस्बोंकेसाथ-साथगांवोंसेकोविड-19केमामलेआनेबढ़रहेहैं।सीरो-सर्वेमेंयहखुलासाहुआकियहमहामारीदेशकेज्यादातरहिस्सोंमेंफैलगईहै,जिससेयहसंकेतमिलताहैकिकोरोनावायरससंक्रमणकाप्रसारसामुदायिकस्तरहोरहाहै।’’इंडियनपब्लिकहेल्थएसोसिएशन,इंडियनएसोसिएशनऑफप्रीवेंटिवऐंडसोशलमेडिसीनतथाइंडियनएसोसिएशनऑफएपीडेमियोलॉजिस्ट्सनेभीयहचिंताजताईहैकिछहमहीनेबादभीलोगोंमेंसामाजिकबदनामी,डरऔरभेदभावकीभावनाहै।स्वास्थ्यमंत्रालयकेएकअधिकारीनेबताया,‘‘अर्द्ध-शहरीक्षेत्रोंसेअधिकसंख्यामेंसंक्रमणकेमामलेआरहेहैं।’’देशमेंमात्र13दिनकेभीतरकोविड-19केमामले30लाखसेबढ़कर40लाखकेआंकड़ेकोपारगये,जिनमेंशनिवारकोसामनेआये86,432नयेमामलेभीशामिलहैं।केंद्रीयस्वास्थ्यमंत्रालयकेशनिवारसुबहआठबजेअद्यतनआंकड़ोंकेमुताबिकदेशमेंकोविड-19केअबतककुल40,23,179मामलेसामनेआचुकेहैं।केंद्रीयस्वास्थ्यमंत्रालयकेमुताबिकपिछले24घंटेमें1,089मरीजोंकीमौतहुईहै,जिन्हेंमिलाकरअबतकदेशमेंकुल69,561संक्रमितोंकीमौतहोचुकीहै।भारत,महामारीसेसर्वाधिकप्रभावितदेशोंमेंतीसरेस्थानपरपहुंचगयाहै।कोविड-19केमामलोंऔरइसकेमरीजोंकीमौतकेसंदर्भमेंप्रथमस्थानपरअमेरिकाऔरदूसरेस्थानपरब्राजीलहै,जबकिइससच्चाईसेभीआंखेंनहींमूंदीजासकतीहैंकिभारतकेगांवोंऔरअर्द्ध-शहरीक्षेत्रोंमेंबड़ेशहरोंकीतरहअस्पतालएवंप्रयोगशालाओंकीसुविधाएंनहींहैं।विशेषज्ञोंनेऔरअधिकआंकड़ोंकीजरूरतपरभीजोरदियाहै।अशोकायूनिवर्सिटीकेभौतिकीएवंजीवविज्ञानविभागकेप्राध्यापकगौतममेनननेग्रामीणक्षेत्रोंपरचर्चाकरतेहुएकहा,‘‘विस्तृतरूपसेतुलनाकरनेकेलियेअभीभीपर्याप्तआंकड़ेनहींहैंलेकिनसुनी-सुनाईरिपोर्टोंसेयहपताचलताहैकिजांचकीसंख्यासीमितहैऔरपर्याप्तरूपसेअच्छीभीनहींहै।’’चेन्नईकेगणितविज्ञानसंस्थानकेप्राध्यापकसीताभ्रसिन्हानेकहा,‘‘अभी,ज्यादातरइलाजरतमरीजमहानगरीयइलाकोंऔरउसकेआसपासमेंकेंद्रितहैं।’’उन्होंनेआगाहकियाकिओडिशाजैसेराज्योंमेंअगलेकुछसप्ताहमेंमामलोंकेबढ़नेकीदरयदिनहींथमीतोवहांएकबड़ीसमस्याखड़ीहोसकतीहै।भुवनेश्वरमेंएकअधिकारीनेकहाकिपूर्वीराज्योंमेंइसमहामारीसेअधिकखतराहैक्योंकिवहां75प्रतिशतसेअधिकआबादीग्रामीणक्षेत्रोंमेंनिवासकरतीहै।शहरोंकीतुलनामेंगांवोंमेंसंक्रमणकीदरअधिकहोनास्वाभाविकहै।अप्रैलकेअंततकसंक्रमणमुख्यरूपसेशहरीक्षेत्रोंतकसीमितथालेकिनप्रवासीश्रमिकोंकेसूरत,मुंबईऔरदिल्लीसेअपनेघरलौटनेकेबादयहमहामारीग्रामीणइलाकोंमेंभीपहुंचगई।पश्चिमबंगालमेंभीप्रवासियोंकेलौटनेकेसाथकोविड-19केमामलोंमेंवृद्धिहुई।राज्यकेस्वास्थ्यविभागकेएकवरिष्ठअधिकारीनेयहदावाकिया।उन्होंनेकहा,‘‘इससेसंक्रमणसामुदायिकचरणमेंपहुंचगया।’’दक्षिणभारतमेंतमिलनाडुकेस्वास्थ्यसचिवडॉजेराधाकृष्णननेकोविड-19केखिलाफलड़ाईकोक्रिकेटका‘टेस्टमैच’जैसाबताया।उन्होंनेकहा,‘‘हमजितनीतत्परतासेजांचकरेंगेउतनीअधिकसंख्यामेंमामलेसामनेआएंगे।राज्यमेंप्रतिदिनकरीब76,500आरटीपीसीआरजांचकीजारही।’’देशमेंमहामारीसेसवार्धिकप्रभावितराज्योंमेंशामिलमहाराष्ट्रमेंलॉकडाउनकेपांचवेंमहीनेकीसमाप्तितकराज्यकेग्रामीणइलाकोंमेंनयेमामलोंऔरइसमहामारीसेहोनेवालीमौतमेंवृद्धिदर्जकीगईहै।राज्यकेएकवरिष्ठस्वास्थ्यअधिकारीनेयहजानकारीदी।उन्होंनेकहा,‘‘महाराष्ट्रमें26अगस्ततक7,03,823मामलेथे,जिनमेंसे5,07,022(72.03प्रतिशत)नगरनिगमक्षेत्रों(शहरीक्षेत्रों)सेथे।इसीतरह,22,794मौतेंमें76.43प्रतिशतनगरनिगमक्षेत्रोंमेंहुईथी।लेकिनअबतस्वीरबदलरहीहै।काफीसंख्यामेंलोगोंकेगांवोंकीयात्राकरनेकेचलतेवहांभीसंक्रमणफैलरहाहैऔरअबकहींअधिकसंख्यामेंमौतेंहोरहीहैं।’’आंध्रप्रदेशकेसरकारीआंकड़ोंकेमुताबिकहालकेसप्ताहोंमेंकोविड-19के40प्रतिशतमामलेग्रामीणक्षेत्रोंसेआयेहैं।राज्यकेस्वास्थ्यआयुक्तके.भास्करनेकहा,‘‘हमप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रऔरसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रमेंबुनियादीढांचाबेहतरकररहेहैंताकिवहांऑक्सीजनसिलेंडरआदिकीव्यवस्थाहोऔरमरीजोंकीसंख्याबढ़नेपरभीउन्हेंइलाजउपलब्धहोसके।’’वहीं,केरलमेंकोविड-19केमामलेफिरसेबढ़रहेहैं।मुख्यमंत्रीपिनराईविजयननेकहा,‘‘अबपर्याप्तसंख्यामेंप्रथमपंक्तिकेउपचारकेंद्र,जांचकेलियेपर्याप्तसंख्यामेंप्रयोगशालाएं,कोविडअस्पताल,अधिकसंख्यामेंस्वास्थ्यकर्मीऔरकोविडब्रिगेडतथाअन्यसुविधाएंहैं,जोमहामारीकेअपनेचरमपरपहुंचनेपरहमेंइसेरोकनेमेंमददकरेगी।’’मध्यप्रदेशमेंअधिकारियोंनेअनुमानलगायाहैकिवायरसराज्यके52मेंसे51जिलोंकेग्रामीणक्षेत्रोंमेंअपनेपैरपसारचुकाहे।गुजरातमें97,000सेअधिकमामलेकेवलसातमुख्यशहरोंसेसामनेआयेहैं।गोवामें50प्रतिशतमामलेग्रामीणइलाकोंसेहैं।हालांकि,उत्तरप्रदेशमेंअधिकारियोंनेकहाकिसंक्रमणअभीभीशहरकेंद्रितहै।निगरानीटीमेंऔरग्रामनिगरानीसमितिकोसतर्ककरदियागयाहैतथाअधिकतमसंख्यामेंजांचकरनेऔरसंक्रमितमरीजोंकेसंपर्कमेंआयेलोगोंकापतालगानेकीरणनीतिकेसाथकामकियाजारहाहै।