कोरोना महामारी से बचने के लिए घर में रहना तो बढ़िया है पढ़ते रहना, अच्छी दोस्त बन गईं हैं किताबें

प्रयागराज,जेएनएन।अजीबबेचैनीऔरघबराहटभरावक्तचलरहाहै।घरसेनिकलनेपरकोरोनाकीचपेटमेंआनेका खतराऔरघरमेंसमयकैसेगुजारें।तनाव,अवसाद,उदासीऔरनिराशा।इससेबचावकेलिएबेहतरहैकिसमयरचनात्मककामोंमेंजैसेडायरीलेखन,बागवानी,भोजनपकानेकेसाथहीअन्यकाममेंगुजारें।औरउनमेंभीसबसेअच्छाहैकिताबेंपढ़ना।किताबोंकोदोस्तबनालीजिएतोज्ञानभीबढ़ेगाऔरअच्छालगेगा।

घबराहटऔरचिंतासेअच्छाहैपढ़ना

इसकोरोनाकालमेंकिताबेंपढ़करसमयव्यतीतकरनेवालोंकीसंख्याबढ़ीहै।कालिंदीपुरमकॉलोनीमेंरहनेवालेजेपीतिवारीहोंयाअल्लापुरनिवासीमनोहरशुक्ला,गोविंदपुरकेराकेशतिवारीहोंयाप्रीतमनगरकॉलोनीकेसनातनपांडेय,इनकाकहनाहैकिचिंताऔरघबराहटसेतोकहींअच्छाहैकिकिताबेंपढ़करसमयव्यतीतकरें।मिसालकेतौरपर उत्तरप्रदेशराजर्षिटण्डनमुक्तविश्वविद्यालयसेयोगकीपढ़ाईकरनेवालीहथिगहांकेचम्पतपुरकीनिवेदिताशुक्लाकोरोनकालमेंकिताबोंसेगहरालगावकरबैठीहैं।अबवहघरपरहीऑनलाइनक्लाससेपढ़ाईकररहीहैं।इसकेअलावाघरकेकामकाजमेंभीतन्मयतासेहाथबंटारहीहैं।

राहुलसांकृत्यायनऔरसुभद्राकुमारीकीपढ़ीकिताबें

निवेदितानेबतायाकिवहपाठ्यक्रमकेअलावाराहुलसांकृत्यायनकीसतमीकेबच्चे,सुभद्राकुमारीचौहानकीपापीपेटऔरइलाचन्द्रजोशीकीडायरीकेनीरसपृष्ठपढ़चुकीहैं।इसवक्तवहअमरकांतकीडिप्टीकलेक्टरीपढ़रहीहैं।इसकेअलावावहपाठ्यक्रमकीभीकिताबोंकोभरपूरवक्तदेनेकेसाथरसोईसेजुड़करमास्टरशेफबननेकीकवायदमेंलगीहैं।निवेदितानेबतायाकिवहप्रतियोगीपरीक्षाओंकीतैयारियोंमेंइसवक्तजुटीहैं।