कलक्ट्रेट पर पुकार, जल संस्थान में हुंकार

जागरणसंवाददाता,फीरोजाबाद:पानीकाटैंकरनपहुंचनेपरसम्राटनगरकेबाशिंदोंकाधैर्यजवाबदेगया।सुबहदर्जनोंलोगजिलामुख्यालयपहुंचेऔरपेयजलकोगुहारलगाई।जलसंस्थानभेजातोवहांअधिकारियोंसेतीखीबहसहुई।महिलाओंकाकहनाथाबूंद-बूंदपानीकोपरेशानहैंऔरअधिकारीसुनवाईनहींकररहेहैं।अबयहांकीजनतानेभूखहड़तालकीचेतावनीदीहै।

मुहल्लासम्राटनगरमेंकईदिनोंसेपानीकीसमस्याहै।गलीसंख्यापांचसेसाततकपाइपलाइनमेंपानीनहींआता।क्षेत्रमेंदोसबमर्सिबलपंपलगेहैं,लेकिनदोनोंफेलहोगए।पहलेनगरनिगमनेसबमर्सिबलपंपलगवानेकावायदाकियाथा,लेकिनअबउसपरभीरोकलगगईहै।पेयजलकिल्लतसेपरेशानलोगपार्षदकापत्रलेकरटैंकरप्रभारीकेपासगएतोबादमेंभेजनेकीकहतेहुएपूरेदिनमेंएकटैंकरमिलनेकीबातकही।बुधवारसुबहदसबजेदर्जनोंमहिलाएंवपुरुषजिलामुख्यालयपरपहुंचगए।डिप्टीकलक्टरमुख्यालयनेजलकलविभागकेलिएआदेशकरउन्हेंभेजदिया।दोपहरमेंयहांपहुंचेलोगोंनेहंगामाशुरूकरदिया।काफीदेरतकहंगामाकरनेकेबादआश्वासनपरलोगघरोंकोचलेगए।मांगकरनेवालोंमेंराकेश,सोबरन¨सह,रुबी,संजूदेवीकेसाथमेंचरन¨सह,गीतादेवी,गायत्रीदेवी,अनिकेतकुमार,विजयकुमारआदिप्रमुखहैं।गर्मीसेबेहोशहुईमहिला

पानीमांगनेआईआशागर्मीकेकारणबेहोशहोकरगिरपड़ी।साथआईमहिलाओंनेमुंहपरपानीकीबूंदेंडालउसेहोशमेंलाया।इसकेबादएक्सईएनएहसानउलहकनेमहिलाकोअपनेकक्षमेंबैठाया।महिलाओंकाकहनाथापानीनहोनेकेकारणसुबहसेहीघरोंमेंखानानहींबनाथा।सुबहभूखेपेटलोगदबरईपहुंचेऔरवहांसेगर्मीमेंहीजलसंस्थानआए।यहांआगुंतकोंकेबैठनेकेलिएजहांकुर्सियांपड़ीहैं,वहांपंखेनहींहैं।जलनिगमकोपत्रभेजझाड़ापल्ला

पेयजलकेलिएनगरनिगमजिम्मेदारहै।मुहल्लेकेलोगपानीकोपरेशानहैं,लेकिनविभागीयअधिकारीकुछनहींकररहे।जलसंस्थानअधिकारीकाकहनाहैसम्राटनगरमेंपेयजलकिल्लतदूरकरनेकेलिएजलनिगमकोटीटीएसपीकेलिएपत्रभेजाहै।जबकिइसमामलेमेंविभागीयअधिकारियोंकोखुदपैरवीकरजल्दीसमस्याकासमाधानकरानाचाहिए।

तीनदिनबादबेटीकीबरातआनीहै।घरमेंपानीकाइंतजामनहींहै।ऐसेमेंशादीकेलिएपानींकहांसेलाएंगे।बरातएवंदावतकेलिएपानीखरीदनेकीस्थितिनहींहै।अधिकारीसुनवाईनहींकररहे।

फोटोनंबरचारतीनमहीनेसेचक्करकाटरहेहैं।दो-तीनदिनमेंएकटैंकरपानीकाभेजाजाताथा,लेकिनअबउसेभेजनाभीबंदकरदियाहै।निगममेंकोईसुनवाईनहींहोती।

फोटोनंबरपांचप्राइवेटसबमर्सिबलवालोंनेभीपानीकीरेटबढ़ादीहैं।गर्मीमें400से500रुपयेमहीनामांगरहेहैं।रोजकमानेवालेकहांसेइतनेरुपयेलाएंगे।कईबारगुहारलगाई,लेकिनअनसुनाकरदियाहै।

फोटोनंबरछहयहांजनताकीसुनवाईहीनहींहोरहीहै।तीनदिनसेरोजचक्करकाटरहेहैं,लेकिनसिर्फआश्वासनमिलतेहैं।सबमर्सिबलकाभीआश्वासनपूरानहींकिया।