किताबों की जगह हाथ में भीख का कटोरा

संवादसहयोगी,झंडूता:जिनहाथोंमेंकिताबेंहोनीचाहिएथीउनमेंभीखकाकटोराहै।झंडूताबाजारमेंसुबहसेहीअन्यराज्योंकेबच्चेहाथमेंकटोरालेकरभीखमांगनेपहुंचजातेहैं।जिसउम्रमेंउन्हेंस्कूलकारूखकरनाचाहिएथाउसउम्रमेंवहलोगोंसेभगवानकेनामपरपैसेमांगतेनजरआरहेहैं।अबयहउनकीमजबूरीहैयाकुछऔरकोईकुछनहींकहसकताहै।इनबच्चोंकेमाता-पितादिहाड़ीमजदूरीकरतेहैंतथाइन्हेंभीखमांगनेकेलिएछोड़देतेहैं।हैरानीकीबातहैकिइनबच्चोंकीउम्रमहज6वर्षसे10वर्षकेबीचमेंहै।लेकिनप्रशासनभीचाइल्डलेबरएक्टकेतहतभीकोईकार्रवाईनहींकररहाहै।येबच्चेपूरेबाजारमेंहरदुकानपरजाकरभीखमांगतेहैं।जबइनबच्चोंसेउनकानामयापतापूछाजाताहैतोवेवहांसेभागजातेहैं।फटेहुएकपड़े,चेहरेपररोना,ऐसेबच्चोंकोदेखतेहीलोगरुपयेदोरुपयेढीलेकरदेतेहै।मगरइसतस्वीरकाएकदूसरापहलूयहहैकियहबच्चेकिसीमजबूरीमेंभीखनहींमांगरहेबल्किइनकेमाता-पिताचंदरुपयोंकीआसकोलेकरइनसेयहगलतकामकरवारहेहै।

सर्वशिक्षाअभियानकेतहतवर्षछहसे14वर्षकेप्रत्येकबच्चेकोशिक्षापानामौलिकअधिकारहै।लेकिनचाहेसरकारकिकमीकहेंयाइनबच्चोंकेमातापिताकी।भविष्यइनछोटेमासूमबच्चोंकाखराबहोरहाहै।दुकानदारोंकाकहनाहैकियहबच्चेसुबहहीदुकानोंपरभीखमांगनाशुरूकरदेतेहैयाफिरसवारियोंकेइर्दगिर्दघूमनाशुरूकरदेतेहैं।