खुलेआम नशीले पदार्थ को सूंघकर नशे का शिकार हो रहा बचपन

सुपौल।बच्चोंकीसुरक्षामेंहमारासमाजबेहदलापरवाहहै।विद्यालयकीबातहोयागली-कूचोंमेंपलताबचपन,हरजगहवहअसुरक्षाऔरखतरोंकेबीचपलरहाहै।लाखोंबच्चेऐसेभीहैंजिनकीसुधलेनेवालाभीकोईनहींहै।हालतयेहैकिनशेकीलतमेंआकरदेशकेभविष्ययानीबच्चोंकीस्थितिअत्यंतगंभीरहोगयीहै।लेकिनइनकीसुधलेनेवालाकोईनहींहै।ऐसाभीनहींहैकिप्रशासनकोइसकीकोईजानकारीनहींहै।लेकिनइसकेबावजूदलापरवाहीकीवजहसेइनपरध्यानदेनेवालाकोईनहींहै।मां-बापकेनिचलेतबकेऔरअशिक्षितहोनेकीवजहसेयेमामलेमीडियाकीन•ारोंसेभीओझलहीरहतेहैं।अपनेनशेकीखुराककेलिएयेबच्चेलगातारअपराधकीदुनियाकीतरफजारहेहैं।ऐसेमेंअगरसमयरहतेकार्रवाईनहींहुईतोबादमेंदेश-समाजकेसामनेयेएकबड़ीसमस्याकेरूपमेंसामनेआसकतेहैं।

बच्चोंकोकहांसेमिलताहैनशीलापदार्थ

मेडिकलस्टोरोंऔरअन्यदुकानोंपरखुलेआमबिकनेवालेनशीलेफ्लूइडकोसूंघकरबच्चेजहांअपनेभविष्यकेसाथखिलवाड़कररहेहैं।कानूनकाझोलकुछइसकदरहैकिइसतरहकेनशीलेपदार्थोंकोरखनेवालेदुकानदारोंपरड्रगइंस्पेक्टरभीकोईकार्रवाईनहींकररहेहैं।प्रखंडकेनेशनलहाईवे327ईथरबिटियारेलवेस्टेशनकेबाहरनशेकीहालतमेंघूमतेयेछोटेबच्चेसड़ककेकिनारेखुलेआमनशाकररहेहैं।इननशेड़ीबच्चोंकोदेखकरप्रखंडकेसभीगांवोंमेंछोटी-छोटीउम्रकेबच्चोंकीसंख्यालगातारबढ़तीहीजारहीहै।नशेकीहालतमेंयेबच्चेदिनभरसड़कपरगुजरनेवालेवाहनकेयात्रियोंसेभीखमांगतेहैं।साथहीकमउम्रकेयेबच्चेनशेकेलियेचोरीऔरयात्रियोंकीजेबोंसेपर्सभीसा़फकररहेहैं।नशाकरनेकाएकदूसरातरीकाऔरनिकालाहै।वोहैसाइकिलकेपंचरजोड़नेवालामैजिकफिक्स(सिलोचन)वफ्लूइडकोकपड़ेवप्लास्टिककीथैलीपरडालकरसूंघकरनशाकररहेहैं।सिलोचनजर्नलमर्चेन्टोवसाईकिलमिस्त्रियोंकीदुकानपरभारीसंख्यामेंबिकरहाहै।प्रखंडकेहरमुहल्लेमेंछोटीउम्रकेसैकड़ोंबच्चेइसकेसेवनसेनशेकेआदिहोगयेहैं।नशेकीहीहालतमेंलोगोंकीजेबोंमेंसेपैसेवलोगोंकेहाथोंसेथैलाछीनकरभागरहेहैं।यदिसमयरहतेपुलिसप्रशासनवप्रशासनिकअधिकारियोंनेनशेकेसमानबेचनेवालेदुकानदारोंपररोकनहीलगाईगईतोनशेड़ीबच्चोकीसंख्याप्रखंडमेंबढ़तीहीचलीजायेगीऔरबचपनकायेभविष्यनशेमेंखोजायेगा।