खैरा के बरियारपुर में श्रमदान से हो रही आहर की खुदाई

जमुई।सिचाईकेलिएआहरकोअतिक्रमणमुक्तकराकरकिसानोंकेखेतोंतकपानीपहुंचानेकीमांगलेकरअधिकारियोंसेलेकरजनप्रतिनिधियोंतकगुहारलगानेकेबादभीजबग्रामीणोंकीकिसीनेनहींसुनीतोलोगोंनेखुदकोशिशशुरूकरदी।बरियारपुरऔरआसपासकेकिसानचंदाइकट्ठाकरश्रमदानकरतेहुएचैनाआहरकीखुदाईमेंजुटगएहैं।खेतोंतकपानीपहुंचे,इसकेलिएयहांकेकिसानसुबहशामहाथोंमेंकुदाललेकरमेहनतकररहेहैं।बतातेचलेंकिगिद्धेश्वरसेनिकलनेवालीअपरकिउलनहरसेआनेवालापानीचैना-दुसाधीआहरमेंजमाहोताथा।इसआहरसेइलाकेकेलगभग400एकड़खेतोंकीसिचाईहोतीथी।लेकिनविगतकुछवर्षोंसेकुछस्थानीयलोगोंद्वाराआहरकाअतिक्रमणकरउसेखेतबनायाजारहाथा।जिसकारणखेतोंमेंसिचाईकेलिएपानीपहुंचानाकिसानोंकेलिएपरेशानीकासबबबनगया।किसानअनिकयादव,संजयसिंह,गौरवकुमारसिंहनेबतायाकिलघुसिचाईविभागकोआवेदनदेकरसमस्यासेअवगतकरायालेकिनसफलतानहींमिली।थकहारकरहमकिसानोंनेआहरकीखुदाईकाजिम्माखुदउठालिया।