केसीसी ऋण जमा करने में 80 फीसद किसान डिफॉल्टर

कैमूर।किसानोंकीस्थितिबेहतरबनानेकेलिएसरकारद्वाराकेसीसीऋणदेनेकीयोजनाचलाईगई।जिसपरकाफीकमब्याजभीलगताहै।इसयोजनाकालाभअधिकसेअधिककिसानोंकोमिलेइसकेलिएबैंकोंद्वाराभीखुलकरकेसीसीकाऋणदियागया।बैंकोंसेकेसीसीऋणयोजनाकालाभलेकरकिसानअपनाकामतोकिएलेकिनऋणचुकताकरनेकीतरफकोईदिलचस्पीनहींदिखारहेंहैं।ऐसेमेंबैंककेऊपरआर्थिकरूपसेकाफीबोझबढ़गयाहै।आजस्थितियहहोगईहैकिबैंकऋणअदायगीकेलिएशिविरलगारहेंहैंलेकिनकोईकिसानऋणजमानहींकररहाहै।ऋणजमाकरनेकेलिएयोजनाएंचलाईजारहीहैताकिकिसानआसानीसेऋणजमाकरदें।लेकिनबैंककाहरप्रयासअबतकजिलेमेंअसफलहीहै।इसकापरिणामहैकिकईखातेएनपीएहोचुकेहैंऔरबैंकअबकेसीसीऋणदेनेमेंभीकतरारहेंहैं।

जिलेमेंलगभगएकलाख90हजारहैंकिसान-

जिलेमेंकुलएकलाख90हजारकिसानोंकीसंख्याहैं।जिसमेंएकलाख40हजारकिसानोंकोकेसीसीऋणकालाभदियागयाहै।इसमें80प्रतिशतकिसानकेसीसीऋणकीअदायगीनहींकररहेंहैं।यानीएकलाख12हजारकिसानजिलेमेंकेसीसीऋणजमाकरनेकेमामलेमेंडिफॉल्टरहैं।इसकेबावजूदअभीकईकिसानकेसीसीऋणकेलिएबैंकोंकाचक्करकाटरहेंहैं।

वनटाइमसेटलमेंटयोजनासेभीकिसानोंनहींहुएप्रेरित-

केसीसीऋणकीअदायगीकेलिएबैंकद्वारावनटाइमसेटलमेंटयोजनाशुरूकीगई।इसयोजनाकेअंतर्गतबैंकसेलिएगएऋणकीअदायगीसमझौताकरएकहीबारमेंकीजासकतीहै।हालांकिअभीयहयोजनाकुछहीबैंकमेंलागूहै।इसकेबावजूदभीअन्यबैंकोंसेऋणलिएकिसानचुकताकरनेमेंदिलचस्पीनहींलेरहेंहैं।किसानोंद्वाराऋणकीअदायगीनहींकरनेसेअन्यकिसानोंवलोगोंकोलाभनहींमिलपारहाहै।

क्याकहतेहैंपदाधिकारी-

जिलेमें80प्रतिशतकिसानऋणकीअदायगीनहींकररहेंहैं।जिससेउनकेखाताएनपीएहोगएहैं।ऐसेमेंअन्यकिसानोंकोइसयोजनाकालाभनहींमिलपारहाहै।उन्होंनेकिसानोंसेअपीलकरतेहुएकहाकिबैंकोंसेलिएगएऋणकीअदायगीसमयसेकरेंताकिबैंकोंपरबोझनहींबढ़ेगाऔरअन्यलोगोंकोलाभभीमिलेगा।

रत्नाकरझा,एलडीएमपीएनबी