कभी करते थे कंठ तर, अब आचमन से भी लगता डर

अभिषेकसिंह,गाजियाबाद:मुझे1947कावहदौरयादआताहै,जबमैंपाकिस्तानसेभारतआयाथा।तबमेरीउम्र15सालथी।इंटरमीडिएटकाछात्रथा।उसजमानेमेंहरनंदीनदीकापानीइतनासाफथाकिलोगनकेवलउसमेंनहातेथे,बल्किपानीपीकरकंठभीतरकरतेभीथे।तबहरनंदीनदीमेंनतोऔद्योगिकइकाइयोंकारसायनयुक्तपानीआताथा,नहीगंदापानीबहायाजाताथा।वक्तबीततागया।हरनंदीअपनीपहचानखोतीगई।अबकंठतरकरनातोदूर,आचमनसेभीडरलगताहै।अबस्थितियहहैकित्योहारपरनेताहरनंदीनदीकिनारेपहुंचकरबयानबाजीकरतेहैं।फोटोखिचवातेहैं।चंदघंटेबादहीनदीकेजीर्णोद्धारकोलेकरकिएवादेभूलजातेहैं।यहकहनाहैअशोकनगरमेंरहनेवालेवरिष्ठस्तंभकारकुलदीपतलवारका।

दैनिकजागरणनेहरनंदीनदीबचाओअभियानकीशुरुआतकीहै।इसअभियानकेदौरानपहलाप्रयासहरनंदीनदीकेजीर्णोद्धारकेलिएजिम्मेदारअधिकारियोंकोगहरीनींदसेजगानाहै,ताकिपतितपावनीगंगाऔरयमुनाकीतरहहीहरनंदीनदीकेजीर्णोद्धारकेलिएएकठोसयोजनाबनसके।यहनदीसहारनपुरकेनिकटशिवालिकपर्वतश्रृंखलासेनिकलकरसहारनपुर,मुजफ्फरनगर,मेरठ,गाजियाबादहोतेहुएगौतमबुद्धनगरतकजातीहै।पांचोंजिलोंमेंहीहरनंदीनदीकापानीदूषितऔरआकारसंकुचितहोचुकाहै।आजजरूरीहैकिनदीकेजीर्णोद्धारकेलिएसभीजिलोंकेजिम्मेदारअधिकारी,पर्यावरणविदऔरजिलेकेलोगनदीकेजीर्णोद्धारकोआगेआएं,ताकिनदीफिरसेजीउठेऔरलोगोंकीप्यासबुझानेकेसाथहीलगातारगिरतेजलस्तरकोबढ़ाए।

वर्जन..हरनंदीनदीकाजीर्णोद्धारतभीहोगा,जबउद्यमीनदीमेंरसायनयुक्तपानीकोप्रवाहितकरनेसेरोकेंगे।नदीमेंप्रवाहितहोनेसेपहलेपानीकोप्लांटमेंशोधितकरनाजरूरीहै।यहतभीसंभवहै,जबप्रशासनसख्तीकरे।

-सत्येंद्रसिंह,पर्यावरणविद।

हरनंदीनदीकेजीर्णोद्धारमेंसरकारऔरप्रशासनरूचिनहींलेरहा।नदीकेजीर्णोद्धारकोएनजीटीकाभीआदेशहै,परउसकापालननहींहोरहा।प्रदूषणविभाग,सिचाईविभाग,प्रशासन,नगरनिकायोंकेसाथपुलिसकीजिम्मेदारीभीतयहै,फिरभीध्याननहींदियाजारहाहै।

-आकाशवशिष्ठ,पर्यावरणविद।

हरनंदीनदीकाजीर्णोद्धारहोनाहीचाहिए।इसकेलिएजिलाप्रशासनसेमांगकीजाएगी।हनुमानमंगलमयपरिवारऔरविश्वब्राह्मणसंघकीओरसेनदीकेजीर्णोद्धारकेलिएहरसंभवकदमउठायाजाएगा।

-बीकेशर्मा,प्रवक्ता,विश्वब्राह्मणसंघ।

हरनंदीनदीकाजीर्णोद्धारमंचपरभाषणदेनेसेनहींहोगा।इसकेलिएराजनेताओंकोचितनकरनाहोगा।हरनंदीकेहीआसपाससेगंगनहरभीगुजररहीहै।सरकारनदियोंकोजोड़नेकीबातकरतीहै।यदिहरनंदीमेंगंगनहरकापानीछोड़ाजाएऔरनदीकेकिनारेसफाईव्यवस्थाठीकहो,तोहीइसकाजीर्णोद्धारहोगा।

-नारायणगिरि,महंत,दूधेश्वरनाथमंदिर।