कांटा लगे न कंकर, इनकी रग-रग में भोले शंकर

जागरणसंवाददाता,एटा:नकांटालगेनकंकर,इनकीरग-रगमेंभोलेशंकर,यानीकिभगवानशंकरउनकीरग-रगमेंबसेहुएहैं।अगलाकदमकिसीकांटेपरपड़ेगायापत्थरपरइसकीकोईपरवाहउन्हेंनहींहैं।कांटाजबपांवमेंचुभताहैतोआहनहींसिर्फभोलेकानामजुबांपरआताहै।कांवड़ियोंकीभक्तिहैहीऐसी,जिसकाकोईसानीनहींहै।यहअहसासअगरअपनेदिलमेंमहसूसकरनाहैतोकांवड़ियोंकेसाथएकदिनयात्राकरलीजिएऔरफिरदेखिएकिकिसतरहआस्थाकेआगेबाधाएंबौनीहोजातीहैं।सावनकेदूसरेसोमवारकोजिलेभरमेंश्रद्धालुशिवमंदिरोंमेंजलाभिषेककरेंगे,इसकीव्यापकतैयारियांकीगईंहैं।

सोमवारकेलिएकांवड़ियोंकीकांवड़ेंसज-धजकरतैयारहैं।सड़कोंपरइंद्रधनुषीयछठादेखनेकोमिलरहीहै।कंधोंपरकांवड़ेंरखेपुरुष-महिलाएंकतारबद्धहोकरजबसड़ककिनारेगुजरतेहैंतोआस्थावानोंकासंगमसाफदिखाईदेताहै।थकान,प्यासउनकेहौसलेनहींडिगापाती।यकीननहोतोभरतपुरजिलेसेआईंरूपवतीसेपूछिए।वेकहतीहैंकिपांचसालसेनिरंतरसोरोंस्थितगंगासेजललेकरअपनेमनौतीवालेदेवस्थानपरजातीहैं।उन्हेंखुदनहींमालूमकिइतनाहौसलाऔरजज्बाउनकेअंदरकहांसेआजाताहै।

इसबारभीबड़ीतादादमेंमहिलाएंभीकांवड़यात्रामेंशामिलहैं।एटाकेकैलाशमंदिरपरतमामकांवड़ेंचढ़ाएजानेकीव्यवस्थाएंहैं।वहीं,जलेसर,अवागढ़,अलीगंज,मारहरा,मिरहचीआदिक्षेत्रोंमेंभीशिवालयोंपरएकदिनपहलेहीभगवानशिवकेउद्घोषगूंजनेलगेहैं।मंदिरएवंशिवालयोंकोसजाया-संवारागयाहै।शिवभक्तउपवासरखभगवानशिवसेमनौतीमांगेंगे।जगह-जगहधार्मिकअनुष्ठानोंकाआयोजनकियाजारहाहै।हवन,पूजन,भजन-कीर्तनकेसाथ-साथभगवानशिवकेविवाहकाआयोजनवरामचरितमानसकेअखंडपाठआयोजितहोंगे।

कांवड़यात्रादेखनेमेंभलेहीआसानलगतीहो,लेकिनबेहददुर्गमहै।कांवड़ियोंकोरास्तेमेंकठिनाइयोंकासामनाकरनापड़ताहै।अगरश्रद्धालुकैंपनलगाएंतोतमामरास्तेऐसेहैंजहांउनकेविश्रामतककेलिएजगहनहींहै।एटा-कासगंजमार्गकीहालततोकहींतकठीकहै,लेकिनएटा-आगरारोडपरगहरेगड्ढेहैं।इसकेअलावाग्रामीणक्षेत्रोंसेजोकांवड़ियासोरोंसेगंगाजललेकरएटाजिलेमेंगंतव्यतकजातेहैंउनगांवोंकेअधिकांशरास्तेपथरीलेहैं।सुरक्षाकेकड़ेबंदोबस्त

कांवड़यात्राकेलिएसुरक्षाकेकड़ेबंदोबस्तकिएजानेकादावाकरतेहुएएडीशनलएसपीसंजयकुमारनेबतायाकिकांवड़ियोंकेरूटपरपेट्रो¨लगकीजारहीहै।मोबाइलपार्टियांनिरंतरगश्तकररहीहैं।रविवारकोशहरमेंकईस्थानोंपरचे¨कगकीगई।कैलाशमंदिरसहितअन्यशिवालयोंपरभीपुलिसतैनातरहेगी।कोबराटीमोंकोभीलगायागयाहै।एकतरफयहदावाहै,वहींदूसरीतरफसुरक्षाव्यवस्थाकीपोलभीखुलरहीहै।मार्गोंपरकहींभीसीसीटीवीकैमरेनजरनहींआरहे।नाहींड्रोनकीव्यवस्थाकीगईहै।प्रमुखशिवमंदिरोंपरमजिस्ट्रेटोंकीड्यूटियांभीलगाईंगईंहैं।सख्तनियमोंवालीकांवड़यात्रा

कांवड़लानेकेलिएशिवभक्तोंनेगंगाजललेकरजानाशुरूकरदियाहै।काफीसंख्यामेंअलग-अलगजगहोंसेकांवड़िएरवानाहोरहेहैं।मान्यताहैकिजिसघरकेलोगकांवड़लेनेकेलिएरवानाहोतेहैं,उनकेआनेतकघरमेंबनाईजानेवालीसब्जीमेंछौंकनहींलगायाजाता।ऐसीमान्यताहैकिछौंकलगानेपरभगवानभोलेकोकष्टहोताहै।इसीतरहएकदमगर्मतवेपररोटीनहींडालीजाती।सिलाईकड़ाईकाकोईकार्यनहींकियाजाताहै।भगवानमहादेवकागुणगानकरपूजाअर्चनाकीजातीहै।इसकेअलावाकिसीजानवरखासकरकुत्तेवगायकोनहींमाराजाता।शिवभक्तकेकांवड़लेकरआनेकेदौरानउसकेपरिवारकेलोगभीउसेभोलेकहकरहीपुकारतेहैंऔरजलचढ़ानेकेबादहीनियमोंकापालनकरनाबंदकियाजाताहै।