काल के पंजे में छटपटाती रहीं जिदगियां

जागरणसंवाददाता,कानपुरदेहात:झींझकसेहंसीखुशीसवारहोकरलोगअपनेअपनेगंतव्यस्थलकेलिएचलेथे,लेकिनउन्हेंपतानहींथाकिआगेक्याहोनेवालाहै।बसगिरीतोसभीकोलगाकिशायदहीअबबचपाएं,करीबएकघंटेतककालकेपंजेमेंफंसकरजिदगियांछटपटातीरहीं।हादसेमेंएकमहिलाकीजानगई।दहशतकाहालयहथाकिसुरक्षितनिकाललेनेकेबादभीकाफीदेरतकसभीबदहवासरहेऔरकुछबोलतकनसके।वहींनहरमेंपानीकमहोनेसेभीलोगकमहताहतहुएवरनानजाराकुछऔरहीहोता।

दोपहरकरीब2:15बजेसेएकघंटेतकबचावकार्यचला।हरतरफशोरऔरबचानेकोप्रयासकरतेग्रामीण।भलेनहरमेंपानीकमथा,लेकिनअंदरबसमेंफंसकरलोगोंकोआंखोंकेसामनेकालहीदिखरहाथा।लोगएकदूसरेकेऊपरगिरकरलदेहुएथे।बाहरजल्दनिकलनेकोसभीछटपटातेरहे।बुजुर्गमहिलामलकिनकोबाहरनिकालागयातोवहकांपतीरहीं।लोगउन्हेंसमझातेरहेकिवहसकुशलहैं,लेकिनदहशतइतनीकिकिसीकीबातउनकेकानोंतकनहींपहुंचरहीथी।बससेपुत्रआरववबेटीपरीसंगसकुशलनिकालीगईंसोनीबाहरअपनीबेटीकोसीनेसेचिपकाएरहीं।लोगोंकेसाथहीउन्होंनेईश्वरकाशुक्रियाअदाकिया।

कीचड़वपानीसेभीगे

कईयात्रीकीचड़वपानीसेभीगगए।बसकेअंदरघुटनोंतकपानीभरगयाथाऔरलोगइधरउधरगिरेपड़ेरहे।कईलोगबाहरनिकलेतोपूराभीगेथेऔरशरीरमेंकीचड़लगाथा।