JLNMCH भागलपुर में ब्राउन शुगर के धुएं में मस्ती, तबीयत खराब होते ही अस्‍पताल में भर्ती, पास में ही है थाना, लेकिन...

अशोकअनंत,भागलपुर।जवाहरलालनेहरूचिकित्सामहाविद्यालयअस्पताल(जेएलएनएमसीएचम)नशेडिय़ोंकाअड्डाबनगयाहै।अस्पतालपरिसरस्थितएकजर्जरभवनमेंनशेड़ीब्राउनशुगरकेधुएंमेंमस्तरहतेहैं।आश्चर्यकीबातयहहैकिमात्रदोकदमकीदूरीपरबरारीथानाहै।अस्पतालप्रशासनकोहीइसबातकीजानकारीहै,लेकिननतोपुलिसकुछकररहीहैऔरनहीअस्पतालप्रशासनइसपररोकलगापारहाहै।

जेएलएनएमसीएचमकेआब्सगायनीविभागकेपिछलेहिस्सेकाभवनकाफीजर्जरहै।उसमेंगंदगीपसरीहुईहै।उसीरास्तेसेएमसीएचवार्डकेकर्मचारीऔरमरीजभीआते-जातेहैं।जर्जरभवनकेकमरोंमेंनशेड़ीब्राउनशुगरकानशाकरतेहैं।वहांकमरोंमेंसैकड़ोंमाचिसकीतिलियांऔररैपरबिखरेपड़ेहैं।उसीरैपरपरब्राउनशुगररखकरनशेड़ीनीचेसेमाचिसजलाकरउसेगर्मकरतेहैं।गर्महोकरजबब्राउनशुगरपिघलतीहैतोउससेधुआंनिकलताहै।इसीधुएंकोनशेड़ीसुघतेहैं।भवनमेंकमरोंऔरबरामदेमेंनशेडिय़ोंकोबैठनेकेलिएईंटभीरखीगईहैं।

भयसेमुंहनहींखोलतेगार्डऔरअस्पतालकर्मी

दोबजेकेबादअस्पताललगभगखालीहोजाताहै।केवलइमरजेंसीकीतरफहीमरीजोंऔरस्वजनोंकीभीड़रहतीहै।इसीकालाभउठाकरनशेड़ीइसभवनकोनशेकेलिएउपयोगकरतेहैं।अस्पतालमेंसुरक्षागार्डसेलेकरअन्यकर्मचारीभीइसहकीकतकोजानतेहैं,लेकिनभयसेकोईमुंहनहींखोलता।

नशेकेलिएकोरेक्सपीनेवालोंकीभीलगीरहतीहैजमघट

अस्पतालकेपिछलेहिस्सेमेंकोरेक्सपीनेवालोंकीभीजमघटलगीरहतीहै।बतायाजाताहैकिआसपासकेमोहल्लोंकेकईयुवाइसनशेकीगिरफ्तमेंहैंऔरअस्पतालपरिसरकोनशेकेलिएउपयोगमेंलातेहैं।ओपीडीकेपूर्वीक्षेत्रमेंगजेड़ीऔरनशेडिय़ोंकाजमावड़ालगारहताहै।हालांकिअस्पतालप्रबंधनकादावाहैकिवहांकेअड्डेकोबंदकरवादियागयाथा।

सोचनेसमझनेकीक्षमताहोजातीहैप्रभावित

चिकित्सकोंकेअनुसारवैसेतोकोईभीनशाअसरडालताहै,लेकिनब्राउनशुगरकानशादिमागकेसोचनेकीक्षमताकोप्रभावितकरताहै।इसकानशाकरतेसमयव्यक्तिकेदिमागमेंजोभीबातबैठजातीहै,वहउसीकीधुनमेंरमजाताहै।वहक्याकरनेजारहाहैऔरउसकापरिणामक्याहोगा,इसकाउसेजराभीअंदाजानहींहोता।

शराबबंदीकेबादड्रग्सकानशाकरनेवालेबढ़े

प्रदेशमेंशराबबंदीकेबादड्रग्स,खासकरब्राउनशुगरकानशाकरनेवालोंकीसंख्याबढ़गईहै।इसकाकारणयहहैकियदिचोरी-छिपेशराबमिलभीजातीहैतो1000से1500रुपयेचुकानेपड़तेहैं,जबकिब्राउनशुगरकीपुडिय़ा50रुपयेमेंआसानीसेउपलब्धहोजातीहै।चिकित्सकोंकाकहनाहैकिशराबकानशाकरनेवालेतेजीसेब्राउनसुगरकीओरशिफ्टकररहेहैं,क्योंकिइलाजकरानेआनेवालेखुदयहबातबतातेहैं।

अस्पतालकेमुख्यद्वारकेपासटैंपोस्टैंडनगरनिगमतयनहींकररहाहैजोदलालोंकाअड्डाभीबनाहुआहै।जिसभवनकोब्राउनशुगरपीनेकेलिएनशेड़ीइस्तेमालकररहेहैंभवनमेंजानेकेरास्तेकोबंदकियाजाएगा।-डा.असीमकुमारदास,अधीक्षक,जेएसएनएमसीएच

अस्पतालमेंप्रतिमाहब्राउनशुगरके50नशेडिय़ोंकोभर्तीकियाजाताहै।आउटडोरविभागकेमानसिकरोगविभागमेंप्रतिदिनतीनसेपांचनशेड़ीइलाजकरवानेआतेहैं।--डा.कुमारगौरव,सहायकप्राध्यापक,मानसिकरोगविभाग,जेएलएनएमसीएच