जल ही जीवन है, इसका संचयन हर नागरिक का नैतिक दायित्व

जागरणसंवाददाता,गुमला:विश्वजलदिवस2021केअवसरपरप्रधानमंत्रीद्वाराकैचदरेनकैंपेनकेउद्घाटनकेपश्चातगुमलाजिलेकेसभीप्रखंडएवंपंचायतमुख्यालयोंमेंजलसहियाओंकेसहयोगसेजलकेबचावकासंकल्पलियागया।साथहीप्रखंडमुख्यालयोंमेंप्रधानमंत्रीकेसंबोधनकाप्रसारणदेखागया।जलशपथकेमाध्यमसेसभीनेपानीबचानेकीशपथली।साथहीइसकेलिएदूसरोंकोभीजागरूकएवंप्रेरितकरने,पानीबचानेऔरउसकासंचयन,विवेकपूर्णउपयोगकरने,पानीकोअनमोलसंपदामानने,कैचदरेनअभियानकोबढ़ावादेनेमेंसहयोगकरनेसंबंधीशपथली।शिशिरकुमारसिन्हानेजिलावासियोंकोसंदेशदेतेहुएजलबचानेकीअपीलकी।उन्होंनेकहाहैकिजलकेमहत्वकोसमझतेहुएइसकासदुपयोगकरें।उन्होंनेजिलामुख्यालयसहितगुमलाकेआमनागरिकोंसेभीगर्मीकेमौसममेंजलसंकटकीओरध्यानआकृष्टकरातेहुएपानीबचानेकेलिएआगेआनेकीअपीलकीहै।उन्होंनेकहाकिकिसीस्तरपरपानीकीबर्बादीनहींहोनेदें।पानीनहींहोनेसेस्थितिभयावहहोगी।सभीकोआपसीसहयोगसेजलबचानेकाप्रयासकरनाहोगा।साथहीवर्षाजलसंचयनहेतूअभीसेहीकार्ययोजनातैयारकरनीहोगी,ताकिभविष्यमेंभीपानीकीपर्याप्तउपलब्धतासुनिश्चितहोसके।जिलापंचायतीराजपदाधिकारीमोनिकारानीटूटीनेबतायाकिजलशक्तिअभियानकेतहतविश्वजलदिवसकेअवसरपरजिलामुख्यालयसहितसभीप्रखंडएवंपंचायतमुख्यालयोंमेंजलसहिया,स्थानीयजनप्रतिनिधि,प्रबुद्धनागरिकएवंग्रामीणोंकेद्वारावर्षाजलकेसंचयनएवंपानीकीबर्बादीकोरोकनेकासंकल्पलियागया।