जिला प्रोबेशन अधिकारी बोलीं , हिम्मत न हारें हर समस्या का है समाधान

अलीगढ़(जेएनएन)।महिलाएंतमामसमस्याओंसेजूझतीहैं।संस्कारवपरिवारकेबंधनमेंबंधेहोनेसेघरेलूङ्क्षहसाकीशिकारहोतीहैंऔरसहतीरहतीहैं।दहेजउत्पीडऩकीभीशिकारहोतीहैं।सहीस्थानवमंचनमिलनेसेअपनीबातेंकहनहींपातीहैं।महिलाओंकीइन्हींसमस्याओंपरपरामर्शदेनेकेलिएदैनिकजागरणके'प्रश्नपहर'मेंजिलाप्राेबेशनअधिकारीस्मितासिंहकोआमंत्रितकियागया।महिलाओंनेखुलकरउनसेबातेंकीऔरपीड़ाबताई।कुछमहिलाएंतोदर्दबतातेहीरोपड़ीं।जिलाप्रबोशनअधिकारीनेउनकाहौसलाबढ़ाया।कहा,हिम्मतनहारें।हरसमस्याकासमाधानहै।कोईभीदिक्कतहोतोवहटोलफ्रीनंबर181परशिकायतदर्जकरें,उनकीजरूरमददहोगी।

दहेजउत्पीडऩसेपीडि़तहूं।चारसालकाबेटाहै।मानसिकवआर्थिकरूपसेटूटचुकीहूं,कोईरास्ताबताइए।

टोलफ्रीनंबर181परफोनकरकेशिकायतदर्जकरादीजिए,पूरीमददहोगी।इसकेबादभीकलक्ट्रेटस्थितमेरेकार्यालयमें31नंबरकमरेमेंमिललें,समस्यासमाधानकापूराप्रयासकरूंगी।

बहूकुछदिनघरपररहतीहै,फिरबिनाबताएचलीजातीहै।मैंनेकईबारउससेकहदियाकिअकेलेरहनाहोतोरहले,मगरवहनहींमानती।

एकबाररिश्तेदारोंकेसाथबहूकेमायकेवालोंसेबातचीतकरिए।यदिउससेभीनहींमानतीहैतोमुझसेआकरमिलिए,समाधानकराऊंगी।

पतिमारपीटकरतेहैं।18सालशादीकेहोगए।कोईखर्चनहींदेतेहैं।दोबच्चेहैं,उनकापालन-पोषणकरनामुश्किलहोगयाहै।

हिम्मतसेकामलीजिए।मैंआपकीहरसंभवमददकेलिएतैयारहूं।महिलाहेल्पलाइन181परफोनकरकेतुरंतमददमांगे।मुझसेआकरभीमिलें,पूरासहयोगकरूंगी।

ससुरालवालोंनेमुझेघरसेनिकालदियाहै।तीनबेटेमुझसेछीनलिएहैं।पतिनेदूसरीशादीकरलीहै।मैंबहुतपरेशानहूं।

यदिकोर्टमेंकेसचलरहाहैतोमैंविवशहूं।आपकोनिर्णयकाइंतजारकरनाहोगा।आपलगीरहिए।फिरभीएकबारकलक्ट्रेटमेंआकरमुझसेमिलभीसकतीहैं,कोईनकोईहलजरूरनिकलेगा।

विधवापेंशनकाफार्मभराहै,मगर,पैसेनहींआरहेहैं।-विमलेश,बनियापाड़ा

आवेदनसहीहैतोपैसाजरूरमिलेगा।चारमहीनेतकइंतजारकरलीजिए।पिछलाजोड़करपैसाआपकेखातेमेंपहुंचजाएगा।

(सामाजिककारणोंसेकुछमहिलाओंकेनाम-पतेनहींदिएगएहैं।)

पुरुषकहांशिकायतकरें

सिकंदराराऊकेडॉ.अशोकनेकहाकियहसहीहैकिमहिलाएंउत्पीडऩकाशिकारहोतीहैं,मगरकईबारपुरुषकाभीउत्पीडऩहोताहै।ऐसेमेंवहकहांशिकायतकरें।पुलिसमेंपहलेमहिलाकीसुनीजातीहै।

महिलाओंकोआश्रयभीमिलेगा

जिलाप्रबोशनअधिकारीनेकहाकिघरेलूङ्क्षहसासेपीडि़तमहिलाओंकोअबआश्रयभीमिलेगा।यदिकिसीमहिलाकेसाथमारपीटकीजातीहै,परिवारकेलोगघरसेनिकालदेतेहैंतोजिलाअस्पतालमेंआपकीसखीआशाज्योतिकेंद्रमेंउन्हेंपांचदिनकेलिएआश्रयमिलेगा।इलाजकीभीव्यवस्थारहेगी।