जीर्णोद्धार के बाद भी गंदगी मुक्त नहीं हुआ तालाब

गुमला:तालाबकोजलसंरक्षणकासबसेबेहतरमाध्यममानाजाताहै।तालाबकेआवासवालेमुहल्लोंटोलोंमेंपानीकीकिल्लतनहींहोतीहै।भूमिगतजलस्तरपरउपरहोताहै।तालाबधरतीकोरिचार्जकरतेरहताहै।लेकिनआजतालाबलुप्तहोतेजारहेहैंजोहैंवेबेहदगंदगीकेकारणसिमटतेजारहेहैं।सरकारजलसंरक्षणकोध्यानमेंरखकरग्रामीणक्षेत्रोंमेंकाफीसंख्यामेंतालाबकीखुदाईकरारहीहै।लेकिनशहरोंमेंमौजूदतालाबदेखभालकेअभावमेंअपनाअस्तित्वखोरहेहैं।शहरकेसिसईरोडस्थितछठतालाबकीस्थितिभीकुछऐसीहै।इसतालाबकीखूबीयहहैकियहशहरकीआबादीकेबीचमेंस्थितहै।सालोंपरभीइसतालाबमेंपानीभीमौजूदरहतीहै।लेकिनइसतालाबकापानीकोदूषितकरदियाजाताहै।पर्वत्योहारोंमेंपूजाकेमूर्तिविसर्जनइसीतालाबमेंकियाजाताहै।इसकेअलावालोगइसतालाबमेंस्नानकेअलावागंदेकपड़ेभीधोतेहैं।इसकेकारणइसतालाबकापानीदूषितहोजाताहै।तालाबकाजीर्णोद्धारभीकियागयाहै।तालाबकागहरीकरणभीकियागया।सौंदर्यीकरणकेनामपरलाखोंरुपयेखर्चकिएगएफिरतालाबकापानीदूषितहै।तालाबकानियमितसाफसफाईनहीहोपाताहै।अकसरतालाबकेकिनारेपालिथीनवकचरेकाढ़ेरदेखाजासकताहै।