Jharkhand Foundation Day: सूर्य सिंह बेसरा बता रहे झारखंड के 20 वर्षों का इतिहास

जमशेदपुर(जासं) ।झारखंडअलगराज्यआंदोलनकेअगुवा,आजसूकेसंस्थापकवपूर्वविधायकसूर्यसिंहबेसरानेकहाकिझारखंडराज्यकीस्थापनाके20सालपूरेहोगए,लेकिनइसराज्यकीतस्वीरनहींबदली।इसकालखंडमेंवर्ष2000से2019तकझारखंडमेंपांचबारविधानसभाकेचुनावहुए।खंडितजनादेशकेकारण11बारसरकारबनी।तीनबारराष्ट्रपतिशासनलागूहुआ।

बेसरानेइसकाविश्लेषणकरतेहुएकहाकिभारतकेस्वतंत्रतासंग्राममेंजोभूमिकाआजादहिंदफौजकीरहीहै,वहीभूमिकापांचदशकपुरानेझारखंडआंदोलनमेंऑलझारखंडस्टूडेंट्सयूनियन(आजसू)कीहै।आजसूके72घंटेकेझारखंडबंदसेझारखंडकीराजनीतिकदशाऔरदिशाहीबदलगई।इसके परिणामस्वरूप1989मेंतत्कालीनप्रधानमंत्रीराजीवगांधीकेकार्यकालमेंझारखंडआंदोलनकेइतिहासमेंपहलीबारकेंद्रसरकारकेसाथआजसूकीदिल्लीमेंझारखंडवार्ताहुईथी।

इसकेबादकांग्रेससरकारकीपहलपरझारखंडविषयकसमितिगठितहुईथी।यहींसेझारखंडराज्यनिर्माणकीदिशाकाकार्यप्रशस्तहुआ।यहएकऐतिहासिकसच्चाईहै।परंतुयहभीसचहैकिकेंद्रकीसत्तापरआसीनकांग्रेससरकारने1993मेंझारखंडराज्यकेबदले परिषददिया।आखिरकारवर्ष2000मेंतत्कालीनअटलबिहारीवाजपेयीकीसरकारनेबिहारराज्यपुनर्गठनविधेयक-2000कोलोकसभाऔरराज्यसभा सेपारितकिया।इसप्रकार"उलगुलानकेजनकभगवानबिरसामुंडा"कीजयंतीकेअवसरपरयानी15नवंबर2000कोझारखंडभारतका28वांराज्यबना।इसकेसाथहीउत्तराखंडऔरछत्तीसगढ़राज्यकाभीगठनहुआ।

इन20वर्षोंमेंछत्तीसगढऔरउत्तराखंडउत्तरोत्तरबेहतरहोतेगएऔरझारखंडबदसेबदतरहोतागया।धनीझारखंडगरीबहोतागया।वर्ष2000मेंझारखंडराज्यकापहलाबजटसरप्लसथा,जबकिइसकेबादकाबजटघाटेकारहा।वर्तमानसरकारमेंतोखजानाहीखालीहै।झारखंडराज्यभ्रष्टाचारकापर्यायबनचुकाहै।शौचालयसेलेकरसचिवालयतकभ्रष्टाचारव्याप्तहै।मंत्रीसेलेकरसंत्रीतकसभीभ्रष्टाचारमेंसंलिप्तहैं।मानोझारखंडमेंसबकुछबिकाऊहै,टिकाऊकोईनही।झारखंडवहराज्यहै,जहांखोदोगेवहींखनिजऔरजहांखोजोगेवहींभ्रष्टाचार।