Jamshedpur News: जमशेदपुर के बाजारों में बिहार के लीची की जबरदस्त मांग, मद्रासी आम बनी लोगों की पहली पसंद

जमशेदपुर,जासं।गर्मीआतेहीबाजारमेंलीचीऔरआमकीखुशबूसेसड़केंमहकनेलगतीहैं।साकची,बिष्टुपुर,मानगो,गोलमुरी,कदमा,सोनारी,जुगसलाई,स्टेशन,बर्मामाइंस,टेल्कोसेआदित्यपुरतकजहांभीनिकलजाएं,सड़ककिनारेफुटपाथपरठेलेमेंइनदिनोंपीले-पीलेआमऔरलालरंगकीलीचीआपकाध्यानआकर्षितकरहीलेतीहै।जरानजदीकपहुंचजाएंगेतोइसकीखुशबूमदमस्तकरदेतीहै।शहरकेबाजारमेंइनदिनोंआमऔरलीचीहीदिखरहीहै।शहरमेंइनदिनोंलीची80से100रुपयेकिलोतकबिकरहीहै,लेकिनथोड़ामोल-भावकरेंगेतो75रुपयेतकदुकानदारमानजातेहैं।लीचीकीआवकमुजफ्फरपुरवकटिहारसेहोरहीहै।

गर्मीआतेहीबाजारमेंदिखनेलगेतरह-तरहकेआम

यहीहालआमकाहै।बाजारमेंइनदिनोंसबसेज्यादाबैगनपिल्लीबिकरहाहै,तोकुछसुंदरीऔरहिमसागरभीहै।येतीनोंकिस्मकेआममद्राससेआरहेहैं।साकचीकेदुकानदारअनवरआलमबतातेहैंकिअभीबंगालकालंगड़ाऔरमालदहआनाशुरूहुआहै,लेकिनबहुतकमहै।बिहारकालंगड़ाभीआजाता,लेकिनइसबारआंधी-तूफानसेकाफीफसलबर्बादहुईहै।यूपीसेदशहरीवचौसाआनेमेंदेरहै।यहसीजनकाआखिरीआमहोताहै।दुकानदारसुलतानकहतेहैंकिबंगालकालंगड़ाआरहाहै,लेकिनबहुतकम।बैंगनपिल्ली100रुपयेऔरसुंदरी140रुपयेबिकरहाहै।साकचीकेदुकानदारअब्दुलअहदबतातेहैंकिअभीखूंटीकातरबूजबिकरहाहै,लेकिनयहभीदो-चारदिनमेंखत्महोजाएगा।सबसेमीठातरबूजओडिशाकेबालासोरकाहोताहै,जोफरवरीमेंआताहै।इसकेबादबंगालकेपुरुलिया,वर्द्धमान,खड़गपुर,मेदिनीपुरसेतरबूजआताहै।वहींखरबूजनागपुरवनासिकसेआरहाहै।अब्दुलकहतेहैंकितरबूजलूकेलिएबहुतफायदेमंदहोताहै,लेकिननईपीढ़ीकोयहमालूमनहींहै।वेलोगइसकीलालीऔरखूबसूरतीहीदेखते-समझतेहैं।

फल                          दाम(रुपयेप्रतिकिलो)

लीची            75से100

बैंगनपिल्लीआम    80से100

सुंदरीआम       120से140

लंगड़ाआम      100से110

हिमसागर              80से100

तरबूज          15से16

खरबूज         70से80

बंगाली-तेलुगूकीपसंदबैगनपिल्ली,बिहार-यूपीकोलंगड़ा

चाईबासा।फलोंकाराजाआमबाजारमेंआचुकाहै।महंगाहोनेकेबावजूदलोगोंमेंइसकीपसंदऔरडिमांडबनीहुईहै।चाईबासामेंबंगाली,मारवाड़ी,बिहारी,गुजरातीवउत्तरप्रदेशसमेतअन्यसमुदायविशेषमेंआमोंकीपसंदअलग-अलगहै।चाईबासाबाजारमेंअभीचारकिस्मकेआममौजूदहै।इसमेंबैगनपिल्ली,सुंदरी,लंगड़ावदशहरीमिलरहेहैं।बंगालीऔरतेलुगूसमुदायकासबसेपसंदीदाआमबैगनपिल्लीहै।यहसाइजमेंकाफीबड़ाहोताहै।यहआमबहुतहीमीठाहोताहै।बंगालीसमुदायकेदेवीशंकरदत्ताकहतेहैंकिचाईबासाबाजारमेंसबसेपहलेबंगनपिल्लीआमहीउतरताहै।हमलोगबैगनपिल्लीआमकाफीपसंदकरतेहैं।स्वादकेअलावाअंदरगूदापर्याप्तमात्रामेंरहताहै।हिमसागरवमालदाआमकेभीहमलोगकद्रदानहैं,मगरचाईबासामेंइसकीआपूर्तिकमहोतीहै।

बाजारमेंछायाफलोंकाराजाआम

उत्तरप्रदेशकेवासियोंकोदशहरी,चौसाऔरलंगड़ाआमपसंदहै।चाईबासामेंबिहार-यूपीकेलोगलंगड़ाआमकीज्यादाखरीदारीकररहेहैं।बाजारमेंआमलेनेपहुंचेलखनऊकेमूलनिवासीअमितपांडेयकहतेहैंकिदशहरीकेलिएअभीइंतजारकरनापड़ेगा।फिलहाललंगड़ाआमकाआनंदलेरहेहैं।यहरेशेदारहोताहै।इसआमकीगुठलीकाफीछोटीऔरगूदाज्यादाहोताहै।इसकीमिठासभीअलगहै।चाईबासामेंरहरहेमारवाड़ीसमुदायकेलोगसुंदरीआमखानेमेंज्यादारुचिलेरहेहैं।मारवाड़ीसमुदायसेआनेवालेरमेशखिरवालकाकहनाहैकिहमारेसमुदायकीपहलीपसंदलंगड़ाहै।लंगड़ाआमबाजारमेंदेरसेआनेकेकारणसुंदरीआमकोप्राथमिकतादीजातीहै।सुंदरीआमकाछिलकापतलारहताहैऔरअंदरकागूदाकेसाथउसकास्वादगजबकारहताहै।वहीं,राकेशकुमारसिंहकहतेहैंकिबिहारीसमुदायमेंलंगड़ाआमकीज्यादाकद्रहै।इसआममेंस्वादअलगरहताहैं।जबतकबाजारमेंलंगड़ाआमनहींआताहै,तबतकघरकेलोगपरेशानरहतेहैं।चाईबासामेंरहनेवालेओड़ियासमुदायकेलोगोंकेबीचभीलंगड़ाकीज्यादाडिमांडरहतीहै।लोगबड़ेचावसेइसआमकाआनंदलेतेहैं।कोल्हानविविकेपदाधिकारीडापीकेपाणिकहतेहैं,मेरेपरिवारमेंलंगड़ाकाफीपसंदकियाजाताहै।दूसरेनंबरपरदशहरीहै।