Jalandhar Special Talent: सुर के भी साधक हैं साईं दास स्कूल के प्रिंसिपल राकेश, गायकी से बिखेरा आवाज का जादू

अंकितशर्मा,जालंधर। पटेलचौकस्थितसाईंदासएंग्लोसंस्कृतिसीनियरसेकेंडरीस्कूलकेप्रिंसिपलराकेशकुमारबच्चोंकोपढ़ानेकेसाथ-साथबहुतअच्छेगायकभीहैं।वहकईसंस्थाओंकेसाथभीजुड़ेहैं समाजसेवामेंभीबढ़-चढ़करहिस्सालेतेहैं।इसदौरानहोनेवाले आयोजनोंमेंवहअपनीआवाजकाजादूबिखेरनेसेनहींचूकते। उनकामाननाहैकिसकारात्मकरहनेकेलिए अपनीखूबियोंकोपहचानाऔरउन्हेंनिखारनामहत्वपूर्णहै।वेअपनेदिनभरकेकामकाजकीथकानकोअपनीगायकीकेजरियेपूरीकररहेहैं।

स्कूलकेसमयसेहीरहागायकीकाशौक

प्रिंसिपलराकेशकुमारनेबतायाकिगायकीकाशौकउन्हें स्कूल,कालेजसेलेकरयूनिवर्सिटीस्तरतकरहा।उसकेबादसेकामकाजकीव्यस्तताकेकारणवेइसेऔरसमयनहींदेपाए। एकदिनवहडा.हरजोतसिंहकेसाथपार्कमेंसैरकररहेथे।वहांदेखाकि 55-60कीउम्रवालेकईलोग एकयादोचक्करलगाकरथककरबैठजातेथे।तभीडा.हरजोतसिंहकोविचारआयाकिक्योंनइनसबमेंजोशभरनेकेलिएकुछकियाजाए।इसकेबादअनवाइंडइवनिंगक्लबकागठनहुआऔरगायकीकाशौकरखनेवालेजुड़नेलगे।

पसंदहै 1960-70केदौरकीफिल्मोंकेगीतगाना

बसतभीसेगीतगानेकाशौकफिरसेबाहरआगयाऔरअबउन्हेंगीतगातेहुएसातसेआठसालहोचुकेहैं।उनकाकहनाहैकिवेअपनेजन्मसेपहलेसेलेकर1960-70केदौरकीफिल्मोंकेगीतज्यादागातेहैं।प्रिंसिपलराकेशकुमारकहतेहैंकिगायकीकेशौककोनिखारनेकेलिएवेरोजानासुबहवशामदोसेतीनघंटेतकरियाजभीकरतेहैं।

योगशिक्षाभीबांटरहेहैंप्रिंसिपलराकेशकुमार

प्रिंसिपलराकेशकुमारगायकीकेसाथ-साथस्वस्थरहनेकेलिएभीयोगशिक्षाभीबांटरहेहैं,क्योंकिवेसर्टिफाइडयोगटीचरभीहैंऔरआठसालोंसेबिनाकिसीदिनभीछोड़ेनिरंतरयोगकक्षालगारहेहैं।वेकहतेहैंकिभागदौड़भरीजिंदगीमेंखुदकोफिटऔरस्वस्थरखनाभीबेहदजरूरीहै।47वर्षीयराकेशकुमारएमएससी,एमएडवयूजीसीक्वालिफाइडहैं।वहचिल्ड्रनसाइंसकांफअरेंसमेंडिस्ट्रिकरिसोर्सपर्सनऔरइवैल्युएटरभीरहेहैं।उन्होंनेअपनेकरियरकीशुरुआत1996मेंसाईंदासस्कूलमेंहीकीथी।उन्होंने 19मार्च,2021कोस्कूलकेप्रिंसिपलपदभारसंभाला।