जागरण स्पेशल : मिड-डे मील अप्रैल से बंद, विभाग को निदेशालय से आदेश का इंतजार

जागरणसंवाददाता,पठानकोट:कोरोनाकीरफ्तारनेमहत्वांकाक्षीयोजनाओंकोभीहालातखराबकरदीहै।इसमेंसेएकमिड-डेमीलहै।इसकेतहतपहलीसेआठवींकक्षातककेविद्यार्थियोंकोमुफ्तभोजनदियाजाताहै।अप्रैलसेइसेबंदकरदियागयाहै।इसकेपीछेकातर्कयहदियाजारहाहैकिदूसरेचरणमेंवायरसजानलेवाहै।इसलिएशिक्षाविभागनेबच्चोंकेहितोंकोध्यानमेंरखतेहुएस्कूलकोबंदकरदियाहै,जिसकारणमिड-डेमीलभीबंदहै।हालांकिइसबारनतोघर-घरमीलपहुंचायाजारहाहैऔरनहीअभिभावकोंकेखातोंमेंपैसेबेजेजारहेहैं।इससंबंधमेंंिवभागीयअधिकारियोंकाकहनाहैकिनिदेशालयसेआदेशोंकेआनेपरव्यवस्थाकीजाएगी।

अभीभीजिलेमें72फीसदसेज्यादाबच्चेसरकारीस्कूलोंमेंपढ़तेहैं।इसमेंसेअधिकतरबच्चेमध्यमवर्गीयपरिवारसेआतेहैंयाआर्थिकरूपसेकमजोरहैं।हालांकिकोरोनाकालकेदौरानसरकारीस्कूलोंमेंबच्चोंकीसंख्यामेंवृद्धिहुईहै।इसमेंकुछसबलपरिवारकेबच्चेभीशामिलहैं।गौरतलबहैकिसरकारीस्कूलोंमेंइससमयकुल56574विद्यार्थीपढ़रहेहैं।पहलीसेपांचवींकक्षातक16794विद्यार्थीऔरप्राइमरीविंग5658विद्यार्थीहैं।पहलेघर-घरमीलपहुंचरहाथा,अबपूरीतरहसेबंद

कोरोनाकेप्रथमचरणमेंशिक्षाविभागनेघर-घरजाकरबच्चोंकोमिडडेमीलखुराकपहुंचानेकेलिएशिक्षकोंकीड्यूटीलगाईथी।अक्टूबरतकयहसिलसिलाचलतारहा।स्कूलखुलनेकेबाददोबारासेमिड-डेमीलपरोसाजानेलगा,जोमार्चतकजारीरहा।अप्रैलमेंकोरोनाकाप्रकोपबढ़तेहीस्कूलोंकोबंदकरदियागया,लेकिन,इनबच्चोंकेलिएमिड-डेमीलपहुंचानेकीकोईव्यवस्थानहींकीगई।नियमअनुसारनहींबंदकरसकतेमिड-डेमील

नियमोंकेअनुसारमिड-डेमीलकोकिसीभीहालतमेंबंदनहींकियाजासकताहै।इसकेबदलेविभागबच्चोंकोसूखाराशनदेसकताहै।उनकाकहनाहैकिइससमयलगभगसभीसरकारीस्कूलकेबच्चोंकाबैंकमेंखाताहै।उनकेखातेमेंसीधेपैसेभीडालेजासकतेहैं।इससेकिसीभीबच्चेकोपरेशानीनहींहोगी।जिनबच्चेकेखातेनहींहैउनकेअभिभावकोंकेखातेमेंडालेजासकतेहैं।डईओबोले-निदेशालयसेनहींआएकोईआदेश

मिड-डेमीलकेतहतसरकारीप्राइमरीस्कूलोंमेंप्रत्येकबच्चेको100ग्रामऔरअपरप्राइमरीमें150ग्रामखाद्यान्नमुहैयाकरानेकाप्रावधानहै।यहयोजना15अगस्त1995कोशुरूहुईथी।इससंबंधमेंडीईओसेकेंडरीबलदेवराजकाकहनाहैनिदेशालयकेफैसलेकेअनुसारहीमिडडेमीलकोरोकागयाहै।जैसेहीआदेशआतेहैंमिडडेमीलकीव्यवस्थाकीजाएगीयाखातेमेंपैसेडालेजाएंगे।

खबरकाजोड़साल-2020-21मेंसरकारीस्कूलोंमेंदाखिलकुलबच्चोंकीसंख्या

कक्षाछात्रोंकीसंख्या