ईवीएम की सुरक्षा को नेता बने 'चौकीदार'

लोकेशशर्मा,अलीगढ़:इलेक्ट्रानिकवोटिगमशीनों(ईवीएम)कीसुरक्षाकीचितासत्ताधारियोंकोहीनहीं,विपक्षकोभीहै।सत्ताधारीतोसशस्त्रबलकीनिगरानीसेनिश्चितहैं,मगरविपक्षकिसेलगाए?इसलिएखुदहीचौकीदारीकररहाहै।ईवीएमकीसुरक्षामेंइनदिनोंतीनशिफ्टोंमेंनेताओंकीड्यूटीलगीहै।टकटकीलगाएनेतास्ट्रांगरूमकोहीनिहारतेहैं।लालटोपीवालोंकोज्यादाचिताहै।तभीतोडीएमसेईवीएमकीसुरक्षाबढ़ानेकीमांगकररहेहैं।कहरहेथेकिस्ट्रांगरूमसेकुछहीदूरदीवारकाटकरदुकानोंमेंचोरीहोगई।रूमकेएकओरतोसुरक्षाबलतैनातहीनहींहै।रातमेंबिजलीभीआंखमिचौलीकरतीहै।ऐसेमेंकुछअनर्थनहोजाए,यहीसोचरहेहैं।दर्जनभरनेतादिन-रातवहींडटेहैं।आने-जानेवालेचुटकीलेरहेहैं।कहतेहैं,10मार्चअभीदूरहै।इन्हेंकौनसमझाएउनकामर्म।

होर्डिंगमेंनजरआएचिरपरिचितचेहरे

चुनावीमौसमभीगजबहै,इसमौसममेंऐसे-ऐसेचेहरेनजरआजातेहैं,जोपिछलेपांचसालसेओझलरहे।येचेहरेबिजलीकेपोलपरलटकेहोर्डिंगमेंनजरआए,दीवारोंपरचस्पापोस्टरोंमेंदिखाईदिए।आने-जानेवालेलोगइनचेहरोंकोपहचानकरचर्चाकिएबिनानहींरहे।स्वाभाविकहै,पांचसालबादजोइन्हेंदेखाथा।गांव-गलियोंमेंजबयेचेहरेसाक्षातप्रकटहुएतोटोकेबिनानहींरहागया।लोगबोले,लंबेअरसेसेगायबरहे,अबक्योंहमारीयादआगई?हालांकि,पूछनेवालेभीजानतेथेकिउन्हेंक्योंयादकियाजारहाथा,मगरफिरभीआपत्तिकी,करनीहीचाहिए।कुछजगहतोयेकहागयाकिइसबारभीसहयोगकियातोफिरगायबहोजाओगे,अच्छाहैसमर्थननदियाजाए,आते-जातेतोरहोगे।दूसरीओरसेकोईजवाबनहींमिला,जवाबथाभीतोनहींजोदेते।

'इंजीनियरसाहब'कीमंजूरहुईंछुट्टियां

चारमहकमोंमेंउलझेरहे'इंजीनियरसाहब'कीछुट्टियांमंजूरहोगईहैं।शासननेभीखर्चेकीसंस्तुतिकरलंबीयात्रापरमुहरलगादी।अबअगलेमहीनेहीइनसेमुलाकातहोसकेगी।सुनाहैकिछुट्टियांसमंदरकेकिनारेबितानेकाविचारहै।जगहकाचयनभीसोचसमझकरकियालगताहै।मुखियाकोअवगतकरादियाहै।कहदियाहैकिउनकीगैरहाजिरीमें'छोटेसाहब'हीसबकुछदेखेंगे।'नगर'केवहीप्रभारीहोंगे।अबतकजोव्यवस्थाएंवे'नगर'मेंकरतेआएहैं,अगले12दिनउनव्यवस्थाओंकीजिम्मेदारी'छोटेसाहब'परहीरहेगी।चहेतेकहरहेहैंकि'इंजीनियरसाहब'कीछुट्टियांमंजूरहोनीहीचाहिएथीं।लंबेसमयसेस्वजनकेसाथकहींगएभीनहीं।यहांकाफीकुछझेलाभी।'छोटेसाहब'कोछुट्टियांनमिलनेकामलालचहेतोंकोहै।बीमारीमेंभीजिम्मेदारियांनिभाईंथीं।मगर,छुट्टीनहींमिलसकी।

सुनतोलीजिएसाहब

डाक्टरसाहबनेजबसे'सर्विसबिल्डिग'मेंकार्यभारसंभालाहै,तेवरहीबदलगए।पहलेतोस्टाफकीराजीखुशीपूछलियाकरतेथे,अबकिसीकीसुनतेहीनहीं,जबकिशहरमेंस्वच्छताकीबड़ीजिम्मेदारीउनकेकंधोंपरहै।सड़कोंपरनिकलकरउन्हेंव्यवस्थाएंदेखनीचाहिए,बेहतरकरानीचाहिए,लेकिनवेविभागीयबैठकोंमेंहीनजरआतेहैं।बदहालइलाकोंमेंलोगडाक्टरसाहबसेगुहारलगारहेहैं।कहरहेहैं,व्यवस्थाएंपहलेहीठीकथीं।कमसेकमहफ्तेमेंएकबारतोसाफ-सफाईहोजातीथी।अबतोमहीनागुजरजाताहै,कोईसफाईकरनेनहींपहुंचता।हेल्पलाइनभीदिलासादेनेभरकेलिएहै।विशेषअभियानकाहवालादेकरझाड़ूलगातेकर्मियोंकेफोटोसोशलसाइट्सपरवायरलकिएजातेहैं।अगलेदिनउन्हींइलाकोंमेंगंदगीकेढेरनजरआतेहैं।शहरमेंयेकैसाअभियानचलारहेहैंडाक्टरसाहब?