ई वोटिंग : पहल अच्छी, लेकिन चुनौतियां भी कम नहीं : एस के मेंहदीरत्ता

:निर्मलयादव:नयीदिल्ली,16फरवरी(भाषा)चुनावआयोगप्रवासीमतदाताओंकोभविष्यमेंईवोटिंगकेजरिएदूरस्थमतदान(डिस्टेंसवोटिंग)यानीकहींसेभीमतदानकरनेकीसुविधादेनेकीतैयारीकररहाहै।मुख्यचुनावआयुक्त(सीईसी)सुनीलअरोड़ानेहालहीमेंइसतरहकेप्रयासकियेजानेकीजानकारीदी।इसकेसाथहीदूरस्थमतदानकेलाभहानिसहितअन्यपहलुओंपरचर्चाचलपड़ीहै।इसकीचुनौतियोंपरचुनावआयोगकेपूर्वविधिकसलाहकारएसकेमेंहदीरत्तासेभाषाकेपांचसवालऔरउनकेजवाब:सवाल:सीईसीनेहालहीमेंप्रवासीमतदाताओंकोभविष्यमेंदूरस्थमतदानकरनेकीसुविधादेनेकीबातकहीहै।भारतमेंदूरस्थमतदानकोआपकितनाउपयोगीमानतेहै?जवाब:रोजगारकेसिलसिलेमेंविदेशयाअन्यराज्योंमेंबसेकरोड़ोंप्रवासीमतदाताचुनावमेंमताधिकारसेवंचितरहजातेहैं।ऐसेमेंमतदानकाप्रतिशतबढ़ानेऔरईवोटिंगसेचुनावखर्चमेंभारीकमीलानेकेलिहाजसेदूरस्थमतदानकीसुविधाएकसकारात्मकपहलहै।अगरइसेमजबूतीसेलागूकियाजायेतोयहभारतकीलगातारअत्याधुनिकहोतीनिर्वाचनप्रणालीकोतकनीककीमददसेबेहतरबनानेवालीपहलसाबितहोसकतीहै।सवाल:पिछले20सालसेप्रयोगकीजारहीईवीएमअगरअभीभीसवालोंकेघेरेमेंहैतोक्याईवोटिंग,लोगोंकाविश्वासजीतसकेगी?जवाब:चुनावसेजुड़ेसभीपक्षकारोंकोपहलेभरोसेमेंलेकरहीइसेलागूकरनेपरयहविश्वसनीयसाबितहोसकेगी।कोईभीतकनीकतभीकारगरहोसकतीहैजबकिवहउपभोक्ताओंकीअपेक्षाओंपरखरीउतरे।इसकाएकमात्रउपायइससेजुड़ीसभीशंकाओंकासमाधानकरनाहै।यहतभीहोसकेगाजबतकनीकको‘फुलप्रूफ’बनायाजायेऔरफिरलोगोंको,खासकरग्रामीणइलाकोंमेंइसकेबारेमेंसघनजागरुकताअभियानचलायाजाये।सवाल:सीमिततकनीकीसाक्षरतावालेदेश,भारतमेंईवोटिंगकितनीव्यवहारिकहोगी?जवाब:हालहीमेंदिल्लीकेचुनावमेंबुजुर्गऔरदिव्यांगमतदाताओंकोघरसेहीमतदानकीसुविधादेनेकीघोषणाकाभीमजाकबनायागयाकियहकैसेहोपायेगा।लेकिनचारहजारलोगोंनेइसीचुनावमेंइससुविधाकालाभउठाया।इसीतरह2010मेंजबप्रयोगकेतौरपरगुजरातमेंईवोटिंगकाविकल्पदियागयातबभीऐसेहीसवालउठेथे।यहसहीहैकिवहप्रयोगबहुतकारगरनहींरहा,लेकिनइससेइतरईवीएमकीशुरुआतमेंभीयहीसवालउठाथा,मगरआजगांवऔरशहरकेसभीमतदाताओंनेईवीएमकोअपनायाहै।सवाल:अमेरिकाजैसेदेशोंकारक्षातंत्रजबहैकिंगकेखतरेसेमुक्तनहींहैतबभारतमेंईवोटिंगलागूकरनाकितनाचुनौतीपूर्णहोगा?जवाब:बेशक,इसमेंचुनौतियांगंभीरहैं।इसीलियेमैनेपहलेहीकहाकिइसकेलियेसभीराजनीतिकदलोंसहितप्रत्येकपक्षकारकोभरोसेमेंलेनाहोगा।आमसहमतिकेबिनाइसेअपनानासंभवनहींहोगा।यद्यपिसीईसीनेजिसब्लॉकचेनसिस्टमकाजिक्रकियाहै,अभीहमउससेवाकिफनहींहैं।यहगुजरातमेंकियेगयेईवोटिंगकेप्रयोगसेकितनाभिन्नहै,हमनहींजानतेहै,लेकिनअगरउन्होंनेकहाहैकिआईआईटीचेन्नईकेसाथमिलकरइसपरकामकियाजारहाहै,तोलाज़िमीहैकिइसकीविश्वसनीयतासहितअन्यचुनौतियोंकेसमाधानकोभीसुनिश्चितकियाजारहाहोगा।सवाल:इसेलागूकरनेमेंकिसप्रकारकीकानूनीचुनौतियांहोंगी?जवाब:निश्चितरूपसेसरकारकोजनप्रतिनिधित्वकानूनकेविभिन्नप्रावधानोंमेंसंशोधनकरनाहोगा।इसकेलियेआयोगद्वाराविधिमंत्रालयकेसमक्षइसआशयकाप्रस्तावभेजनाअनिवार्यहै।मंत्रालयइसकेव्यवहारिकऔरतकनीकीपहलुओंपरविचारकरनेकेबादहीकानूनमेंसंशोधनकेलियेमंत्रिमंडलकीमंजूरीलेगाऔरफिरप्रस्तावितसंशोधनकोसंसदकीमंजूरीमिलनेपरहीइसेलागूकियाजासकेगा।मुझेलगताहैकिचुनावआयोगकानूनी,तकनीकीएवंअन्यव्यवहारिकचुनौतियोंकोदेखतेहुयेइसेबहुतजल्दबाजीमेंलागूनहींकरनाचाहेगा।