ई-वे बिल जेनरेट करने में जुटे आबकारी विभाग के अधिकारी

जागरणसंवाददाता,सोनीपत:

केंद्रसरकारकीओरसेसामानकेआयात-निर्यातपरलागूकियागयाई-वेबिलजेनरेटकरनेमेंबेहतरकरनेकेलिएआबकारीएवंकराधानविभाग(सेलटैक्स)केअधिकारीजुटेहुएहैं।यहीकारणहैकिफरवरीमें88.9फीसदनेजीएसटीआर-3बीकेतहतकीरिटर्नदाखिलकीहै।अबअधिकारीहरमहीने100फीसदरिटर्नदाखिलकरनेकेलक्ष्यपरकार्यकररहेहैं।इसीकेतहतसरकारकोकाफीआमदनीहोगी।

केंद्रसरकारकीओरसे1अप्रैलकोई-वेबिललागूकियाहै।50हजारसेअधिककेमालपरई-वेबिलकीआवश्यकतापड़तीहै।सप्लायर,खरीदारएवंट्रांसपोर्टरकोजीएसटीएनपोर्टलपरजाकरई-वेबिलजेनरेटकरनाहोता।इसकीमान्यताअवधिऔरदूरीअनुसारतयकीगईहै।सोनीपतजिलेमेंअबतक17,958डीलरपंजीकृतहैं।ऐसेमेंबिललागूहोनेकेकरीबडेढ़महीनेबादजिलेकेफर्मवडीलरोंनेइसेप्रयोगकरनेमेंकाफीदिलचस्पीदिखारहेहैं,जिससेसरकारकोभीआर्थिकलाभपहुंचरहाहै।वहीं,फरवरीमें88फीसदसेज्यादानेजीएसटीआर-3बीकेतहतरिटर्नफाइलकीहै।अधिकारियोंकालक्ष्यहैकिइसफीसदको100तकपहुंचायाजाए।वहीं,उनकंपनियोंकोरदकरनेकेलिएविभागध्यानकेंद्रितकररहाहै,जोपिछलेछहमहीनोंसेरिटर्नयाशून्यरिटर्नदाखिलनहींकररहेहैं।फर्म,डीलरआदिसामानकोस्थानांतरितकरनेकेलिएई-प्रणालीसेबिलबनारहेहैं।अभीतकजिलेकाई-वेबिलमेंकाफीदबदबारहाहै।लगातारफर्मोंऔरडीलरोंकोजीएसटीऔरई-वेबिलकेबारेमेंजानकारीदीजातीहै।इसकेबावजूदअगरकिसीकोपरेशानीहोतीहैतोवेसहायताडेस्कपरसंपर्ककरसकतेहैं।

-संगीताडबास,जीएसटीनोडलअधिकारी,सोनीपत