हमारे अस्तित्व के लिए जल को बचाना जरूरी

जागरणसंवाददाता,हाथरस:जलहीजीवनहै,हमारेशरीर,शहरऔरउद्योग,खेतीऔरपारिस्थितिकीसबइसीपरनिर्भरहै।किसीकोभीजलसेवंचितनहींकियाजानाचाहिए।यहविश्वजलदिवससबकेलिएइसअधिकारकासम्मानकरनेकाअवसरहैजिसमेंकोईपीछेछूटनेनपाए।

जलकोबचानेकेलिएचलायाअभियान

पर्यावरणसुरक्षासंस्थानकेउपाध्यक्षभवतोषमिश्रकईसालसेजलकोबचानेकेलिएलोगोंकाजागरूककरनेकाकामकररहेहैँ।जहांभीपानीकोबहतेहुएदेखतेहैंउनकोफौरनरोकनेकीपहलशुरूकरदेतेहैं।आनेवालेदिनोंमेंअगरऐसेहीजलबर्बादहोतारहातोआनेवालेकलमेंहमपानीकोतरसजाएंगे,इसलिएजलकोबचानाबेहदजरूरीहै।कईबारगोष्ठीभीकरचुकेहैं।हाथरसकेबसअड्डेकेअलावातमामजगहटूटीटोटीबदलनेकेलिएभीअभियानचलायागया।जलकीफिजूलखर्चीरुकसकेइसकेलिएलगातारप्रयासकियेगए।

जलहीतोजीवनहै

सादाबादनिवासीएडवोकेटशैलेंद्रनगाइचकईसालसेजलकोबचानेकाअभियानछेड़ेहुएहैं।व्यर्थमेंबहतेहुएपानीकोदेखकरखुदटोटियांखरीदकरपोस्टमेंलगवातेहैं।वहकहतेहैंकिआजनहींतोकललोगोंकोपीनेकेपानीकेलिएतरसनेकोमजबूरहोनापड़ेगा।लोगपानीकीकीमतनहींसमझरहेहैं।घर-घरअबआरओपानीकीसप्लाईप्रारंभहोगईहैफिरअभीतकव्यर्थमेंपानीकोबहाबहारहेहैं।

हमेंजलकीकीमतसमझनीचाहिए

सिकंदराराऊनिवासीविशालराजसिंहचौहानजलसंरक्षणकेलिएनिरंतरप्रयत्नशीलरहतेहैं।निर्बाधरूपसेचलरहेनलोंद्वाराजलकीबर्बादीहोतेदेखवहलोगोंकोटोकनेसेनहींचूकते।घरोंकादरवाजाखटखटाकरलोगोंकोबहतेपानीकोरोकनेकेलिएकहतेहैंऔरसमाजमेंजलसंरक्षणकेलिएलोगोंकोजागरूककरनेकाबीड़ापिछलेपांचवर्षोसेउठाएहुएहैं।वहकहतेहैंकिविश्वके1.5अरबलोगोंकोपीनेकापानीभीनहींमिलरहाहै।पानीप्राकृतिकदेनहैइसलियेहमेंप्राकृतिकसंसाधनोंकोदूषितनहींहोनेदेनाचाहिएऔरनाहीपानीकोबर्बादकरनाचाहिए।