Hindi Diwas पर मुरादाबाद में शिक्षकों का किया गया सम्मान, हिंदी भाषा को बढ़ावा देने पर हुए सम्मानित

मुरादाबाद,जेएनएन।TeachershonoredinMoradabad:राष्ट्रीयहिंदीदिवसकीपूर्वसंध्यापरएलएनएसरेनबोक्लबकीओरसेकेजीकेमहाविद्यालयभौतिकविज्ञानप्रोफेसरडा.योगेम्बरसिंह,मेथोडिस्टगर्ल्सइंटरकालेजभौतिकविज्ञानप्रवक्ताडा.ज्योतिगुप्ताकोशिक्षकसम्मानदेकरसम्मानितकिया।यहसम्मानउन्हेंहिंदीभाषाकोबढ़ावादेनेऔरअपनेकार्यकोहिंदीभाषामेंकरनेकेलिएदियागया।क्लबअध्यक्षस्वदेशसिंहनेबतायाकिकोरोनाकालमेंआनलाइनशिक्षणमेंहिंदीभाषाकाप्रयोगकरकेकठिनसेकठिनटापिककोभीबहुतहीसरलतरीकेसेछात्र-छात्रोंकोसमझाया।इसमेंसचिवज्योत्सनागुप्ता,कोषाध्यक्षआंचलसिंह,सदस्यनिशाआर्या,गीतांजलिरहीं।

हिंदीदिवसपरहुईगोष्ठी :सोमवारकोरोटरीक्लबमुरादाबादकीओरसेहिंदीदिवसपरआइएमएहालमेंकाव्यगोष्ठीहुई।जकार्ता(इंडोनेशिया)कीअप्रवासीभारतीयवैशालीरस्तोगीडा.गोपेशमेहरोत्रानेदीपजलाकरकार्यक्रमकाशुभारंभकिया।इसकेबादइंडोनेशियामेंहिंदीसाहित्यकीसेवाकररहीवैशालीरस्तोगीकाक्लबकीओरसेअभिनन्दनऔरसाहित्यसेवीसम्मानसेसम्मानितकियागया।काव्यसंध्याकीश्रंखलामेंराजीवप्रखर,डा.ममतासिंह,डा.रीतासिंह,डा.संगीतामहेशनेकाव्यपाठकिया।संयोजनडा.संगीतामहेशनेकिया।सरस्वतीवंदनाअंजलिशर्मानेकी।संचालनरंगकर्मीक्लबअध्यक्षडा.पंकजदर्पणअग्रवालनेकिया।इसमेंक्लबट्रेनरसुबोधभारद्वाज,सचिवप्रदीपअग्रवाल,अंजलिअग्रवालकासहयोगरहा।

हिंदीभाषाराष्ट्रकी,करतीयुगसम्मान:सोमवारकोसाहित्यिकसंस्थाहिन्दीसाहित्यसंगमकीओरसेसाहित्यकारडा.महेशदिवाकरकोहिंदीसाहित्यगौरवसम्मानसेसम्मानितकियागया।उन्हेंअंगवस्त्र,मानपत्र,श्रीफलएवंप्रतीकचिह्नभेंटकिएगए।सम्मान-समारोहमिलनविहारस्थितमिलनधर्मशालामेंहुआथा।इसमेंराजीवप्रखरनेमांसरस्वतीकीवंदनासेकार्यक्रमकाशुभारंभकिया।इसकेबादडा.महेशदिवाकरकेव्यक्तित्वएवंकृतित्वपरआधारितआलेखकावाचनरचनाकारडा.मनोजरस्तोगीनेकिया।

उन्होंनेबतायाकिउत्तरप्रदेशसरकारद्वारासाहित्यभूषणसम्मानसम्मानितडॉ.महेश‘दिवाकर’हिंदीकेउन्नयनएवंसंवर्द्धनकेलिएपूर्णतयासमर्पितहैं।उनकीकृतियोंमेंदोशोधग्रंथ,दससमीक्षा-शोधपरकग्रंथ,दोसाक्षात्कारग्रंथ,दोनईकवितासंग्रह,दोगीतसंग्रह,आठमुक्तकएवंगीति-संग्रह,सातखण्डकाव्य,तेरहयात्रा-वृत्त,दोसंस्मरणएवंरेखाचित्रसंग्रहउल्लेखनीयहैं।आपकासाहित्यलोकधारानामसेग्यारहखंडोंमेंप्रकाशितहोरहाहै।

मुख्यअतिथिबृजेशकुमारतिवारी,विशिष्टअतिथिअशोकविश्नोई,बदायूंकेरचनाकाररामकृपालतिवारीरहे।अध्यक्षतासाहित्यकारयोगेन्द्रपालसिंहविश्नोईसंचालनराजीवप्रखर,जितेन्द्रकुमारजौलीनेसंयुक्त्रूपसेकिया।इसमेंयोगेन्द्रवर्माव्योम,रामेश्वरप्रसादवशिष्ठ,रामसिंहनिशंक,रामकृपालतिवारी,मनोजरस्तोगी,रामदत्तद्विवेदी,ओंकारसिंहओंकाररहे।संस्थाअध्यक्षरामदत्तद्विवेदीनेआभारजताया।