हैंडबॉल व रग्बी जैसे खेलों को लोकप्रिय बनाने में जुटी है रीना

पूर्णिया।पूर्णियाजैसेछोटेशहरजहांकिसीभीखेलकेलिएबेहतरमैदानऔरजिमतकउपलब्धनहींहैवहांकिसीभीखिलाड़ियोंकोप्रशिक्षणदेनाकिसीचुनौतीसेकमनहींहै।उसमेंभीहैंडबॉलऔररग्वीजैसेगैरपरंपरागतखेलोंसेशायदहीकोईजुड़नाचाहे।लेकिनइसचुनौतीकोस्वीकारकरराष्ट्रीयस्तरकीखिलाड़ीरीनाबाखलानेखिलाड़ियोंकीटीमबनाकरउन्हेंप्रशिक्षणदेनेकीजिम्मेदारीउठाईहै।वेस्वयंएथलेटिक्स,हैंडबॉलऔररग्वीफुटबॉलमेंस्टेटटीमकाहिस्सारहीहैं।रीनाअबजिलेकेउभरतेखिलाड़ियोंकोतैयारकररहीहैं।लड़केऔरलड़कियोंकोप्रशिक्षणदेरहीहैं।लडकियोंकोरग्वीऔरहैंडबॉलजैसेखेलोंकेलिएप्रेरितकररहीहैं।क्लबकीस्थापनाकरखिलाड़ियोंकोतराशरहीहैं।अबतक14लड़के-लड़कीबिहारटीमकाहिस्साहैंडबॉल,रग्वीऔरएथलेटिक्समेंबनचुकेहैं।वहस्थानीयस्तरपरहैंडबॉलऔररग्वीफुटबॉलसंघकीसंस्थापकहैं।जिलासंघबनाकरखेलकाआयोजनकरवाया।दोवर्षकेअंदरहीपूर्णियाकेखिलाड़ियोंनेबिहारराज्यटीमकाबनेऔरजिलाकानामरोशनकिया।यहांतककिराज्यस्तरपरहोनेवालीप्रतियोगितामेंबतौरनिर्णायकउन्हेखेलसंघोंसेआमंत्रणभीमिलताहै।इसकेसाथहीमहिलाकॉलेजऔरपूर्णियाविश्वविद्यालयमेंबतौरप्रशिक्षककेरूपमेंखिलाड़ियोंकोतराशरहीहैं।-:खेलकेलिएसमर्पितकियाहैजीवनरीनाबाखलाकानामअबजिलाखेलजगतमेंकोईनयायाअपरिचितनहींहै।रीनाकासफरकाफीसंघर्षपूर्णरहा।काफीसाधारणपरिवारसेआनेवालीरीनाने2004-05सेखेलनाशुरूकिया।एथेटिक्सकीविभिन्नप्रतियोगिता(जैबलीन,शॉटफूटवहैमरथ्रो)मेंप्रथमस्थानहासिलकिया।उसकेबादराष्ट्रीयचैंपियनशिपमेंखेलनेकामौकामिला।2004-05से2009-10तकबिहारजेबलीन(भालाफेक)एथलेटिक्सप्रतियोगितामेंप्रथमस्थानपरआतीरहीं।इसीदौरानअखिलभारतीयविश्वविद्यालयचैंपियनशिपमेंतीनबारएथलेटिक्सप्रतियोगिताकेतौरपरचयनहुआ।200607मेंपूर्णियामेंआयोजितराज्यस्तरीयप्रतियोगितामेंसर्वेश्रेष्ठखिलाड़ीकापुरस्कारहासिलकिया।उससमयकेतात्कालिकखेलमंत्रीजनार्दनसिंहद्वारासम्मानितकियागयाथा।रीनाकोइसकेअलावातैराकी,तीरंदाजीऔरबैंडमिटनखेलनेकाभीशौकहै।रीनायहांकेखिलाड़ियोंकोराष्ट्रीयऔरअंतर्राष्ट्रीयस्तरपरखेलनेदेखनाचाहतीहैं।उनकाकहनाहैकिइसकेलिएखेलसंसाधनकायहांपरविकासबहुतआवश्यकहै।प्रतिभाकोतराशनेकेलिएसंसाधनकाकाफीमहत्वहोताहै।