हाथ-पैर टूट गए तो पट्टी-रुई लेकर पहुंचिए अस्पताल

जागरणसंवाददाता,बलरामपुर(आजमगढ़):सरकारस्वास्थ्यकोलेकरजितनाजागरूकहैवहींडाक्टरऔरअस्पतालोंकेप्रभारीपूरीव्यवस्थापरप्रश्नचिन्हलगारहेहैं।इतनाहीसरकारकेदावेकीकिरकिरीकरारहेहैं।मंडलीयअस्पतालकीसच्चाईयहहैकिअगरआपकोचोटलगगईहैऔरहाथपैरटूटगएहैंतोआपकोरुईपट्टीसेलेकरसभीकुछबाहरसेलानाहोगा।तबकहींआपकाइलाजहोसकेगा।कहनेकोतोअस्पतालमेंसभीजरूरतकीसेवाएंऔरसंसाधनउपलब्धहैंलेकिनमंडलीयअस्पतालइनसबपरपानीफेररहाहै।केसवन:नाम:अरविदकुमार,निवासीअजमतगढ़।हादसेमेंहाथटूटगया।मंडलीयअस्पतालपहुंचेतोइलाजहुआ,लेकिनपट्टी,रुईखरीदकरबाजारसेलानापड़ा।

केसटू:अजीतकुमार,निवासीकोलहटाकमालपुर,थानामहराजगंज।दीवारगिरनेसेहाथवपैरकीहड्डीटूटगई।मंडलीयअस्पतालमेंऑपरेशनहुआ,लेकिनउसकेलिए12000रुपयेखर्चकरनेपड़े।

जेबढीलीकरइलाजकरानाबनीमजबूरी

मंडलीयअस्पतालमेंइलाजकीसच्चाईयहीहै।मुसीबतआपकेऊपरआईहै,तोअस्पतालमेंइलाजहोगा।आपकोबसजेबढीलीकरनीपड़ेगी।येदोकिरदारतोमहजउदाहरणहैं।ढूंढ़नेपररोजानाकईलोगमिलजाएंगे।निजीअस्पतालोंमेंइलाजमहंगाहोनेकेकारणलाचारगरीबकोमंडलीयअस्पतालकाहीदरवाजाखुलादिखताहै।ऐसेमेंइलाजकराएयाहककीलड़ाईलड़े।सरकार,शासन,हुक्मरानोंकेसिलसिलेवारसमीक्षाकरनेकेबावजूदगड़बड़ियांसमझसेपरेहैं।

सर्जरीविभागपरउठरहेसवाल

ऐसेनहींकिमंडलीयअस्पतालमेंगरीबोंकीमुस्कुराहटनहींलौटरहीहै।हां,गड़बड़ियांहोनेपरशिकायतेंभीबाहरआरहीहैं।हड्डीरोगएवंसर्जरीविभागकीशिकायतेंचरमपरहैं।मरीजमुश्किलेंझेलनेकेबादभीजल्दीजुबाननहींखोलनाचाहताहै।क्योंकिउसेठीकहोनेतकअस्पतालमेंहीतोरहनापड़ताहै।

दलालबिगाड़रहेखेल

अस्पतालमेंमरीजोंकेसाथहोरहीज्यादतीकेपीछेदलालहैं।मरीजअस्पतालमेंपहुंचेनहींकिउन्हेंडॉक्टरकोदिखानेइत्यादिकाभरोसादेकरदलाललूटनेमेंलगजातेहैं।बहुतेरेभरोसानहींभीकरतेहैं,लेकिनउन्हेंडाक्टर्सकेसाथठिठोलीकरतेदेखमजबूरहोजातेहैं।बेहतरइलाजकीउम्मीदमेंकुछरुपयेखर्चकरनेमेंगुरेजनहींगंवारानहींहोताहै।पुलिसअधीक्षककोपत्रलिखाहूं।दलालोंकोचिह्नितकरकेउनकेखिलाफकठोरकार्रवाईकीजाएगी।पुलिसपड़तालकरेगीतोदलालोंकोशरणदेनेवालेभीफंसेंगे।कुछपरेशानियांरहीं,लेकिनकिसीकोबाहरसेपट्टी-बैंडेजखरीदनेकीस्थितिनहींहै।कोईबाहरसेखरीदनेकोकहताहै,तोमुझसेशिकायतकरनीचाहिए।मरीजोंकाशोषणबर्दाश्तनहींहै।

-डा.कृष्णगोपालसिंह,एसआइसी,मंडलीयअस्पताल।