हाईवे पर बेसहारा पशुओं का डेरा, हादसे की बनी रहती है आशंका

नारीबारी:प्रयागराज-रीवाराष्ट्रीयराजमार्गपरगौहनियासेनारीबारीतकबेसहारापशुओंकाकब्जारहताहै।हाईवेपरजारीऔरगन्नेबाजारकेआसपासभीकमोवेशयहीहालतरहतीहै।इससेआएदिनहादसेहोतेहैं।इसकेअलावाइनबेसहारापशुओंकेकारणइलाकेकेकिसानभीहैरान-परेशानहैं।उनकीखेतीइससेचौपटहोरहीहै।क्षेत्रकेगांवोंमेंविचरणकररहेबेसहारापशुओंद्वाराफसलोंकोनुकसानपहुंचाएजानेसेकिसानोंमेंआक्रोशव्याप्तहै।

एकतरफप्रदेशसरकारबेसहारापशुओंसेकिसानोंकीफसलकोबचानेकेलिएगांव-गांवपशुआश्रयस्थलबनानेकेसाथगायोंकीमहत्ताकेलिएगोपाष्टमीमनारहीहै।वहींसंबंधितजिम्मेदारअधिकारियोंकीउदासीनतासेबेसहारापशुफसलोंकोरात-दिननुकसानपहुंचारहेहैं।इससेअन्नदातापरेशानहैं।बेसहारापशुओंसेफसलोंकेबचावकेलिएक्षेत्रकेसुरवलसहनी,कोहड़िया,चौकठा,जरखोरीआदिगांवोंमेंलाखोंरुपयेकीलागतसेपशुआश्रयस्थलबनवाएगएहैंलेकिनसंबंधितजिम्मेदारअधिकारियोंकीलापरवाहीएवंउदासीनतासेउक्तआश्रयस्थलभ्रष्टाचारकीभेंटचढ़गएहैं।हरगांवमेंसैकड़ोंकीसंख्यामेंबेसहारापशुपलकझपकतेहीकिसानोंकीखूनपसीनेकीफसलचटकरजातेहैं।यहीनहींदिनऔररातमेंयेबेसहारापशुहाईवेपरविचरणकरतेहैं,जिससेआएदिनदुर्घटनाएंहोतीहैं।कईलोगोंकीहादसोंमेंमौततकहोचुकीहै।बावजूदइसकेजिम्मेदारअधिकारीनहींध्यानदेरहेहैं।क्षेत्रीयकिसानोंनेशासनप्रशासनसेबेसहारापशुओंसेनिजातदिलानेकेलिएप्रभावीकार्यवाहीकरनेकीमांगकीहै।