गुड़ का कारोबार जीवन में घोल रहा मिठास, मेहनत कर बढ़े तरक्‍की के रास्‍ते पर Gorakhpur News

गोरखपुर,जेएनएन:कहतेहैंइरादेमजबूतहोंतोकोईभीराहआसानहोसकतीहै।इसकहावतकोचरितार्थकियाहैसंतकबीरनगरजिलेकेसांथाब्लाककेधोबहानिवासीतय्यबअलीने।एकदशकपूर्वउन्होंनेगरीबीसेतंगआकरगांवमेंगन्नापेराईकरकेगुड़बनानेकाकार्यशुरूकिया।आजवहतरक्कीकेरास्तेपरहैं।उनकीउन्नतिदेखकरक्षेत्रकेकुछअन्यलोगभीगुड़बनानेकाकार्यकररहेहैं।तय्यबकाबनायागुड़ज्यादातरहाथों-हाथबिकजाताहै।गर्मगुड़खरीदनेकेलिएलोगप्रतिदिनउनकेपासपहुंचतेहैं।बेहतरस्वादकेकारणगर्मीकेमौसममेंगुड़कीमांगबढ़जातीहै।तय्यबअपनेएकएकड़खेतमेंखुदगन्नाउगातेहैं।साथहीक्षेत्रकेअन्यकिसानोंकाभीगन्नाखरीदकरगुड़बनातेहैं।अपनेपेराईकेंद्रपर15से20लोगोंकोवहनियमितरोजगारदेरहेहैं।खुदतरक्कीकरनेकेसाथ-साथतय्यबदूसरोंकोभीइसरोजगारकेलिएप्रेरितकरतेहैं।वर्तमानमेंवहलोगोंकेलिएप्रेरणाकेश्रोतहैं।

नेपालतकहोतीहैगुड़कीआपूर्ति

तय्यबकेगुड़कीआपूर्तिसंतकबीरनगर,सिद्धार्थनगर,बस्तीसहितनेपालतकहोतीहै।वैसेज्यादातरइनकाबनायागुड़क्षेत्रीयस्तरपरहीखत्महोजाताहै,लेकिनगन्नेकेसीजनमेंपेराईकाकामतेजहोताहैतोगुड़कानिर्माणभीतेजीसेहोनेलगताहै।इससेआपूर्तिभीबढ़जातीहै।गुड़बनानेकेकार्यसेइनकोप्रतिवर्षकरीबदसलाखरुपयेकामुनाफाहोताहै।

शुरूहोगईगन्नेकीखेती

सांथाक्षेत्रगन्नेकीखेतीकेलिएमुफीदनहींमानाजाताहै।बेसहारापशुओंवजंगलीजानवरोंकीसमस्यासेफसलबर्बादहोनेकाखतराबनारहताथा।इसकारणयहांगन्नेकीपैदावारकिसाननहींकरतेथे,लेकिनतय्यबकापेराईकेंद्रचलतादेखकरधोबहा,गनवरिया,रमवापुर,राजेडीहागांवकेदर्जनोंकिसानोंनेगन्नेकीखेतीशुरूकरदी।खेतसेहीफसलखरीदलीजातीहै।किसानोंकोउचितदाममिलजाताहै।अबक्षेत्रमेंगन्नाकीखेतीकरनेवालोंकीसंख्यामेंइजाफाहुआहै।तय्यबकहतेहैकिमहराजगंजजनपदमेंएकदशकपूर्वनिजीकार्यसेगयाथा।वहांएकरिश्तेदारनेगुड़बनानेकेकार्यकेबारेमेंजानकारीदी।तभीसेगुड़बनानेकाकार्यकररहाहूं।अबइसधंधेसेकाफीफायदाहोरहाहै।