गोशाला में गोवंशों को नहीं मिल रहा चारा

संवादसूत्र,सहायल:कस्बाकेकरचलागांवमेंबनीअस्थाईगोशालामेंसमयसेचारानमिलनेकेकारणगोवंशोंकीहालतबिगड़रहीहै।गोवंशोंकोदिनमेंएकसमयखानेकेलिएनादोंमेंपानीभरकरउसमेनाममात्रकीबाजराकीसूखीकुटीवसड़ाभूसादियाजारहाहै।जिसकारणआएदिनवहबीमारहोकरअपनीजिदगीगवांरहेहैं।कईबारग्रामीणोंकीओरसेशिकायतकीगई,लेकिनकोईसुनवाईनहींहुई।

अस्थाईगोशालामेंकरीब367गोवंशहैं।पिछलेसप्ताहहुईबारिशसेखुलेमेंरखाभूसाभीगनेसेसड़गयाहै।ग्रामीणोंनेबतायाकिदेखरेखगोशालाकर्मियोंद्वारागेटकेबाहरसेहोतीहै।लिहाजा,परिसरमेंकीचड़वगंदगीफैलीहै।सड़ाभूसावबाजराकीकर्वीमवेशीखानहींरहेहैं।भूख-प्याससेतड़प-तड़पकरआएदिनमवेशियोंकीमौतहोतीरहतीहै।इसकेबादउन्हेंवहींदफनकरदियाजाताहै।अधिकारीगोशालाकानिरीक्षणकरनेआतेहैंतोव्यवस्थाएंचाक-चौबंदकरदीजातीहैं।

ग्रामीणोंनेबतायाकिगायोंकीमौतकेबादभीउन्हेंउठानेकीउचितव्यवस्थानहींहै।शिकायतकेबादभीअधिकारीनहींसुनरहेहैं।अभीभीगोशालामेंकईगोवंशबीमारहैं।इससेपूर्वभीजिलेकेकईपशुआश्रयस्थलोंमेंगायोंकीमौतेंहोचुकीहैं।ग्रामपंचायतप्रधानश्यामसिंहकाकहनाहैकिसमयसेपैसानहींमिलरहाहै।30रुपयेमेंक्याहोताहै।बिधूनाएसडीएमरमापतिनेबतायाकिब्लॉककीगोशालाकाकार्यभारवडाटावीडियोकेपासउपलब्धहै।फिलहालउन्हेंमामलेकीजानकारीनहींहै।खंडविकासअधिकारीसौरभश्रीवास्तवनेबतायाकीप्रधानकोसरकारकी30रुपयेदीगईराशिकोमाननाहीपड़ेगा।यहराशिपूरेप्रदेशमेंलागूहै।अगरकोईगोवंशभूखकेकारणयासर्दीसेमरताहै,तोकार्रवाईकीजाएगी।