गोल्ड मेडल लाकर देश का नाम रोशन करेंगी खुशी

जागरणसंवाददाता,प्रयागराज:यूपीटीममेंचयनसिर्फउपलब्धिहीनहींबल्किसहीमायनेमेंमेरेअंदरकेखेलकोपुनर्जीवितकियाहै।ऐसाभीवक्तआयाजबपढ़ाईकादबावबना।दोस्त,रिश्तेदारकेपारंपरिकसवालचुभनेलगे।अंदरकाखेलखत्महोतेजारहाथा।बाकीकसरकोरोनानेपूरीकरदीथी,लेकिनमैनेहारनहींमानी।पढ़ाईऔरखेलकेबीचसंतुलनबनाएरखा।येकहनाहैकिउप्रवालीबालमहिलाटीममेंचयनितहोकरशहरकामानबढ़ानेवालीजार्जटाउननिवासीवालीबालखिलाड़ीखुशीसिंहका।

पांचमार्चकोउड़ीसामेंआयोजित69वींराष्ट्रीयसीनियरवालीबालप्रतियोगितामेंटीमकेसाथमैदानमेंदमखमदिखाएंगी।वनविभागकुंडामेंदारोगापदपरकार्यरतखुशीकेपिताविजयप्रतापसिंहसहितपरिवारमेंसबबहुतउत्साहितहैं।खुशीनेबतायाकिवहइलाहाबादविश्वविद्यालयमेंविधिछात्राहैं।ऐसेमेंकईबारसेमेस्टरपरीक्षाऔरसीनियरस्टेटकीतारीखएकहोजातीहै।नचाहतेहुएभीमुझेप्रतियोगिताछोड़नीपड़तीहै।कईबारमनहोताकिपरीक्षाछोड़करप्रतियोगितामेंचलीजाऊं,लेकिननहींजापाती।इसबारपरीक्षाकीतारीखआगेबढ़नेसेमुझेट्रायलदेनेकामौकामिलाऔरचयनितहोगई।नईऊर्जाकेसाथअबदेशकेलिएमेडललानेकेलिएदिन-रातएककरनाहै।अभीतोमुख्यउद्देश्यराष्ट्रीयटीममेंजगहबनानाहै।

11सालकीउम्रसेशुरूकियाखेलना

जगततारनग‌र्ल्सइंटरकॉलेजमेंविजयासिंहकेनिर्देशनमेंवॉलीबालकरियरकीशुरुआतकरनेवालीखुशी11सालसेखेलरहीहैं।सातसालकेअंदरदोजूनियरनेशनलऔरएकसीनियरनेशनलस्कूललेवलप्रतियोगिताएंखेलीं।अमिताभबच्चनस्पो‌र्ट्सकॉम्प्लेक्सम्योहालमेंसंजयशर्माफिरवर्तमानमेंक्रीड़ाधिकारीसंदीपगुप्ताकेदिशा-निर्देशमेंम्योहालमेंहीअभ्यासरतहैं।

राष्ट्रीयटीमचयनहोनेकाहैसपना

उप्रवालीबालपुरुषवर्गमेंचयनितमेजानिवासीविवेकशुक्ल13सालसेवालीबालखेलरहेहैं।इनकेपिताआरपीशुक्लवालीबालकेपूर्वराष्ट्रीयखिलाड़ीरहचुकेहैं।वर्तमानमेंविवेकइलाहाबादकृषिमहाविद्यलयसेबीपीएडकेचौथेसेमेस्टरकेछात्रहैं।सोरावयूथक्लबमेजामेंअभ्यासकरतेहैं।चयनकाश्रेयपिताकोदेतेहुएकहाकिबालीबालप्रशिक्षणलेरहाहूं।