घरों में प्रवेश करने लगा सड़क पर जमा गंदा नाला का पानी

प्रखंडमुख्यालयकेबाजारकाआधाहिस्सागंदगीऔरगंदेपानीकीचपेटमेंहै।बाजारकेमुख्यनालाकेहोनेसेसड़कवितरणीबनगईहै।सड़कपरबहरहेनालाकेगंदापानीसेलोगोंकीपरेशानीबढ़नेलगीहै।अभीतोयहमौसमबारिशकाभीनहीं।बावजूदबाजारकीमुख्यसड़कगंदानालाकेपानीकीभेंटचढ़गईहै।अबतोयहपानीमुहल्लेकेकईलोगोंकेदुकानोंमेंपहुंचगयाहै।प्रतिदिनलोगोंकोइससमस्यासेदोचारहोनापड़ताहै।एकघंटेमशक्कतकरलोगघरोंमेंफैलनेवालेगंदापानीकोबाहरनिकालतेहैं।रामगढ़-बक्सरपथकेपश्चिमीकिनारेगंदापानीसड़कपरपसराहुआहै।इसीगंदेपानीकेबीचसेलोगबैंकभीजातेहैं।सामानोंकीखरीदारीकेलिएदुकानोंमेंभीआवाजाहीकरतेहैं।गंदेपानीमेंपूर्वीइलाकेकेकलानीवचंडेशजानेवालीसवारीवाहनोंकोभीयहींसेलोगपकड़तेहैं।बड़ौरारोडमेंभीजामनालासेलोगफजीहतझेलरहेहैं।ग‌र्ल्सकॉलेजवपीएनबीकेरास्तेमेंभीनालाकागंदापानीलोगोंकेलिएसमस्याहै।दुर्गाचौककेपासकेकईघरोंमेंपानीघुसरहाहै।हालतइतनीखराबहोगईहैकिलोगअपनेघरोंकेसामनेकीसड़कपरमिट्टी,ईंटकेटूकड़ेगिराऊंचाकररहेहैं।ताकिगंदेपानीसेहोकरउन्हेंनगुजरनापड़े।तबगंदगीऔरगंदेपानीकेबीचसेहोकरगुजरनेकीपीड़ाकासहजहीअंदाजालगायाजासकताहै।यहसमस्यादोवर्षसेबरकरारहै।निदानकीपहलदिखावेकीबनकररहगई।तीनमाहपहलेलोगोंनेविधायकअशोककुमारसिंहसेइसकीशिकायतकी।विधायकनेतत्कालपीएचइडीकेअधिकारियोंकोरामगढ़बुलवाया।अधिकारियोंनेविधायककेसाथसमस्याकाजायजालियाफिरसप्ताहभरबादनालेकेकुछहिस्सेकीसफाईटैंकरवमशीनकेमाध्यमसेकीगई।बतायागयाकिअबनालेसेपानीकीनिकासीशुरुहोगई।लेकिनहकीकततोकुछऔरहीबयांकररहीहै।समस्यातोजसकीतसहै।बाजारमेंप्रतिदिनहजारोंलोगोंकीआवाजाहीहै।बैंकसेनिकलरहेविदामनचकगांवकेत्रिपुरारीचौबे,शिक्षकपिटूयादवनेकहाकिसमस्याकानिदाननहींहुआ।ग्राउंडफ्लोरछोड़पहलीमंजिलपररहनेकोविवशजामनालासेएकदर्जनपरिवारकेलोगपरेशानहैं।एकवर्षसेसुबहजगनेकेबादइनकीदिनचर्यागंदेपानीकोजुगाड़सेबाहरनिकालनेसेशुरुहोतीहै।देवहलियांरोडस्थितमेडिकलदुकानकेरूपेशचौधरीवआंबेडकरचौककेपासचुन्नीदुकानदारविध्याचलप्रसाद कीव्यथासुननेवालाकोईनहीं।उनकेघरमेंरोजपानीघुसजाताहै।गंदेपानीकेडरसेग्राउंडफ्लोरकोछोड़पहलीमंजिलपररहनेकोविवशहैं।नीचेदुर्गंधभरीरहतीहै।दुर्गाचौककेपासहार्डवेयरदुकानचलानेवालेरामप्रतापगुप्ताकीभीपरेशानीइससेजुदानहीं।बड़ौरारोडस्थितजयप्रकाशगुप्ता,मुन्नागुप्ताकेघरमेंभीपानीघुसरहाहै।सभीलोगोंमेंशिथिलसिस्टमकेप्रतिआक्रोशहै।ऊंचीहोतीगईसड़क,धंसतेगएमकानजामनालासेसड़कोंपरपसरापानीपरेशानीकाकारणतोहैही,लेकिनसड़ककीसतहसेनीचेहोचुकेमकानमेंरहनेवालोंकीपीड़ाबढ़गई।दरअसलजबजबसड़कबनीतोउसेबिनाउखाड़ेबनादियागया।नतीजायहहुआकिबीसवर्षोंमेंबाजारकीसड़कपहलेसेपांचफीटऊंचीहोगई।नालाबनातोबिनायोजनाकेबनगया।बीसफीटलंबेढ़क्कनकीढ़लाईकरनालाकोपाटदियागया।अबउसेहटाकरनालाकीसफाईकरानासंभवनहीं।नावसिस्टमसेसफाईकाप्रयासकारगरनहींहुआ।तबजाहिरहैगंदेपानीसेमुक्तिदिलानाप्रशासनकेलिएबड़ीचुनौतीहै।