गांवों में सियासी माहौल गरमाएंगे प्रवासी

जेएनएन,बदायूं:पंचायतीराजव्यवस्थाकीसबसेअहमइकाईग्रामपंचायतोंकेचुनावकासमयकरीबआचुकाहै।लॉकडाउनकेबीचचुनावआयोगकीगतिविधियांभीशुरूहोचुकीहैं।अंदरखानेराजनीतिकदलोंनेभीअपनीतैयारीशुरूकरदीहै।इसबारकेचुनावमेंप्रवासियोंकीभूमिकासबसेअहमहोगी।इनकीवजहसेसियासीपारागरमरहेगा।मतदाताओंकीसंख्याबढ़जानेसेकड़ीप्रतिस्पर्धाभीदेखनेकोमिलसकतीहै।

कोरोनामहामारीकादौरचलरहाहै।वर्षोंसेबाहरमेंरहरहेलोगभीगांवलौटरहेहैं।अधिकांशलोगआभीचुकेहैं।दुश्वारियांझेलकरजैसे-तैसेघरपहुंचेलोगजल्दीदिल्ली,मुंबई,गुजरात,हरियाणा,पंजाबऔरराजस्थानजानेकासाहसनहींजुटापाएंगे।इसीसालअक्टूबर-नवंबरमेंग्रामपंचायतकेचुनावकासमयहै।चुनावकेसमयप्रधानीकेदावेदारबाहरसेग्रामीणोंकोबुलानेकाप्रबंधतोकरतेहैं,लेकिनअधिकांशलोगनहींआपातेहैं।जोलोगबाहररहनेलगतेहैं,उनकीगांवकीराजनीतिमेंरुचिनहींरहजातीहै।इसबारअधिकांशप्रवासीगांवआचुकेहैं।जोलोगकहींफंसेहैं,उनकेआनेकासिलसिलाजारीहै।मतदाताओंकीसंख्याअधिकहोगीतोप्रतिस्पर्धाभीबढ़ेगी।प्रधानीकेचुनावमेंउम्मीदवारोंकीसंख्याभीबढ़सकतीहै।मौजूदाप्रधानोंकेपासमनरेगामेंअधिकसेअधिकलोगोंकोरोजगारमुहैयाकराकरअपनेखेमेमेंकरनेकाअच्छाअवसरमिलाहुआहै।इससमयमनरेगासेकामकरानेमेंबजटकीभीकोईपाबंदीनहींहै।विरोधीपक्षकेलोगभीमौजूदाप्रधानोंकीकमियांतलाशकरचुनावीमुद्दाबनानेकीजुगतभिड़ारहेहैं।हालांकिअभीमतदातासूचीपरकामशुरूनहींहुआहै,इसकेबादआरक्षणकीव्यवस्थाभीकरनीहोगी,तबजाकरचुनावहोगा।बहरहाल,लॉकडाउनअभीकबतकचलेगा,चुनावकीगतिविधियांकबतकशुरूहोंगी,इसपरसरकारऔरचुनावआयोगस्तरसेनिर्णयलियाजाएगा,लेकिनप्रवासीमजदूरोंकीघरवापसीकोदेखतेहुएइसबारपंचायतचुनावकामाहौलगरमरहनेकेआसारबनरहेहैं।

पंचायतचुनावतोअक्टूबर-नवंबरमेंहोनेचाहिए,लेकिनअभीमतदातासूचीबनानेकाभीकामभीशुरूनहींहुआहै।आरक्षणकीप्रक्रियाभीचलेगी।चुनावआगेबढ़नाचाहिए,अगरसमयसेतैयारीपूरीकिएबिनाचुनावकरायाजाताहैतोअदालतकादरवाजाखटखटायाजाएगा।

-सोहनपालसाहू,प्रदेशसचिव,ग्रामप्रधानसंगठन