गांव को काट रही कोसी नदी में विलीन हो रहे घर

संवादसूत्र,किशनपुर(सुपौल):कोसीनदीकेतांडवसेतटबंधकेअंदरबसेलोगोंकीपरेशानीबढ़तीजारहीहै।दोसप्ताहसेकोसीनदीमेंपानीआनेऔरनावकीव्यवस्थानहींरहनेकेकारणआवागमनमेंकाफीपरेशानीहोरहीहै।पानीकेउतार-चढ़ावकेचलतेजहांगांवकोकाटनेलगीहैकोसीवहींलोगोंकाघर-द्वारनदीमेंविलीनहोनेलगाहै।प्रखंडकीबौराहापंचायतकेसोनवर्षागांववार्डनंबरतीनमेंपिछलेएकसप्ताहसेघरकटावकासिलसिलालगातारजारीहै।लगभगपचासपरिवारकेघरनदीमेंविलीनहोगएहैं।ऐसेमेंलोगअपनेबाल-बच्चेकोलेकरऊंचेस्थानपरशरणलिएहुएहैं।बेंगागांवमेंभीघरकटनेकासिलसिलाजारीहै।

----------------------------------------

क्याकहतेहैंविस्थापितलोग

बौराहापंचायतकेसोनवर्षागांवमेंकोसीनदीकेकटावसेघरगंवाचुकेरामचंद्रसदा,मंगलसदा,रईसरायसदा,बिदेश्वरीसदा,विलाससदा,जीतनसदा,धनेशसदा,विलाससादा,दीपनारायणराय,जगदीशराय,ब्रजेशसदा,गणेशीसदा,नौवाबाखरपंचायतकेवार्ड05केबहादुरसदा,ओमप्रकाशसदा,चंदेश्वरीसदा,सत्यनारायणसदा,परमेश्वरीसदा,महेंद्रसदा,रामनाथसदाआदिनेबतायाकिपिछलेदोसप्ताहसेकटावजारीहै।सूचनादेनेकेबावजूदकोईभीसरकारीअमलाअबतकझांकनेनहींआया।

-----------------------------सरकारीलाभनहींमिलनेसेलोगोंकोनिराशा

कटावपीड़ितमहंगाईकेकारणअन्नकेलिएमोहताजहोगएहैं।प्रशासनकेद्वाराअभीतककोईलाभनहींप्राप्तहोनेकेकारणविस्थापितोंकोखाने-पीनेकेभीलालेपड़ेहुएहैं।

मुखियाउदयकुमारचौधरीनेबतायाकिकोसीनदीमेंहरसालबाढ़आतीहैऔरतटबंधकेअंदरबसेलोगोंकीजिदगीभरकीकमाईएकझटकेमेंबहाकरलेजातीहै।पिछलेएकमाहसेनदीमेंपानीआनेसेलोगोंकेघर-आंगनमेंपानीलगाहुआहै।लोगमचान-चौकीपरअपनेपरिवारकोरखकररहरहेहैं।करीबएकसौपरिवारकेघरकटनेकेकारणवेअन्यपंचायतकेऊंचेस्थानोंपरशरणलिएहुएहैं।पीड़ितोंकोअबतकसरकारकेद्वाराकोईसुविधाउपलब्धनहींहोपाईहै।

सीओसंध्याकुमारीनेबतायाकिअभीबाढ़कापानीघटाहुआहैलेकिनकईलोगोंकेघर-आंगनमेंपानीजमाहुआहै।सभीपंचायतकेमुखियाववार्डसदस्यकोपीड़ितोंकीसूचीतैयारकरनेकोकहागयाहै।जिसकिसीकाघरनदीमेंकटाहैउसेजल्दहीराहतसामग्रीउपलब्धकराईजाएगी।